बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम को लगाएं, कीमत जानें

3 किलोवाट के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम से आप घर के सभी उपकरणों को चला सकते हैं। ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में इलेक्ट्रिक ग्रिड की ही बिजली का प्रयोग होता है।

Published By News Desk

Published on

बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम की कीमत जानें
बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम की कीमत

यदि आपके घर या प्रतिष्ठान में बिजली का लोड प्रतिदिन 15 यूनिट तक रहता है, तो ऐसे में आप 3 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। 3 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल द्वारा उचित मात्रा में धूप प्राप्त करने के बाद प्रतिदिन 15 यूनिट तक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है।

3 किलोवाट के सोलर सिस्टम द्वारा प्रतिमाह 450 यूनिट बिजली का निर्माण किया जा सकता है। यदि आप प्रतिमाह 450 यूनिट बिजली का प्रयोग करते हैं, एवं बिजली बिल में बचत करना चाहते हैं। तो इस सोलर सिस्टम को लगा सकते हैं।

सोलर सिस्टम को ऑनग्रिड एवं ऑफग्रिड स्थापित किया जा सकता है। ऑफग्रिड सोलर सिस्टम में पावर बैकअप करने के लिए सोलर बैटरियों का प्रयोग किया जाता है। जिसका प्रयोग नागरिक अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं। यदि आप को पावर बैकअप की आवश्यकता नहीं पड़ती है, एवं आपके स्थान पर बिजली की कटौती बहुत कम है तो आप ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। इस प्रकार के सोलर सिस्टम में इलेक्ट्रिक ग्रिड के साथ पैनल से निर्मित बिजली को साझा किया जाता है, साझा होने वाली बिजली की रीडिंग की जानकारी नेट-मीटर द्वारा प्राप्त होती है।

3 kw ऑनग्रिड सोलर सिस्टम

वर्तमान समय में घरों में बड़े-बड़े विद्युत उपकरणों का प्रयोग किया जाने लगा है, जिस कारण बिजली का बिल भी अधिक प्राप्त होता है। बिजली के बिल को कम करने के लिए ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को स्थापित किया जा सकता है। 3 किलोवाट क्षमता के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम से निर्मित होने वाली बिजली को इलेक्ट्रिक ग्रिड के साथ शेयर किया जाता है। इस बिजली की रीडिंग की गणना करने के लिए नेट-मीटर का प्रयोग किया जाता है। जिस से आप बिजली बिल में भारी छूट प्राप्त कर सकते हैं।

3 किलोवाट के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम से आप घर के सभी उपकरणों को चला सकते हैं। ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में इलेक्ट्रिक ग्रिड की ही बिजली का प्रयोग होता है। यदि उस दौरान बिजली चली जाती है, तो ऐसे में आप किसी उपकरण को नहीं चला सकते हैं। ऑनग्रिड सोलर सिस्टम की स्थापना करने पर आप सरकारी सब्सिडी का आवेदन भी कर सकते हैं। जिस से आप सोलर सिस्टम को लगाने में आर्थिक बचत कर सकते हैं। 3 किलोवाट के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को 1.30 लाख से 1.60 लाख रुपये में स्थापित किया जा सकता है।

3 kw ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में सब्सिडी सोलर सिस्टम

3 किलोवाट के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को स्थापित करने के लिए आप केंद्र सरकार की सोलर रुफटॉप सब्सिडी योजना का आवेदन कर सकते हैं। इस योजना का संचालन केंद्र सरकार का नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय MNRE कर रहा है। इस योजना के द्वारा 3 किलोवाट का ऑनग्रिड सोलर सिस्टम लगाने पर नागरिक को सरकार से 40% सब्सिडी प्रदान की जाती है।

3 किलोवाट से अधिक 10 किलोवाट तक के सोलर सिस्टम पर नागरिक को 20% सब्सिडी प्रदान की जाती है। 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम को सब्सिडी के साथ स्थापित करने पर 1 लाख से 1.20 लाख रुपये में लगाया जा सकता है। योजना का आवेदन करने के लिए MNRE द्वारा राष्ट्रीय रुफटॉप पोर्टल जारी किया गया है। जिस पर नागरिक घर बैठे ही आवेदन कर सकते हैं।

3 Kw ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर पैनल की कीमत

सोलर सिस्टम में मुख्य रूप से पॉलीक्रिस्टलाइन, मोनो PERC एवं बाइफेशियल प्रकार के सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है। तीनों ही प्रकार के सोलर पैनल की अपनी-अपनी विशिष्टता होती है। सोलर पैनल सोलर सिस्टम में सबसे मुख्य एवं महत्वपूर्ण उपकरण होता है। जिसके अंदर फोटोवोल्टिक सेल (PV) लगे होते हैं, जिन्हें सोलर सेल भी कहा जाता है। इन सेल के द्वारा ही सूर्य से आने वाली ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदला जाता है। सोलर सिस्टम में लगने वाले इन सोलर पैनल की कीमत निम्नलिखित है:-

  • 3 किलोवाट क्षमता के पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की कीमत लगभग 90,000 रुपये है। पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की दक्षता कम होती है। जिस कारण इनकी कीमत भी अन्य सोलर पैनल की तुलना में कम होती है। ये सोलर पैनल सबसे अधिक सोलर प्लांटों में प्रयोग होते हैं, इन्हें इनके नीले रंग से आसानी से पहचाना जा सकता है। ये कम धूप में बिजली का उत्पादन नहीं करते हैं।
  • 3 किलोवाट क्षमता के मोनो PERC सोलर पैनल की कीमत लगभग 1,10,000 रुपये तक हो सकती है। मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल उच्च दक्षता के सोलर पैनल होते हैं। इन्हें काले रंग की सहायता से पहचाना जा सकता है। इस प्रकार के सोलर पैनल खराब मौसम या कम धूप में भी बिजली का उत्पादन कर सकते हैं। इनकी कीमत पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल से अधिक होती है।
  • 3 किलोवाट क्षमता के बाइफेशियल सोलर पैनल की कीमत लगभग 1,20,000 रुपये तक हो सकती है। ये सबसे आधुनिक तकनीक से बनाए गए सोलर पैनल होते हैं। इन सोलर पैनल के दोनों ओर से बिजली का उत्पादन किया जा सकता है। इन्हें प्रयोग करने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इस प्रकार के सोलर पैनल कम स्थान में भी स्थापित हो जाते हैं।

3 Kw ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर इंवर्टर की कीमत

सोलर पैनल से प्राप्त होने वाली बिजली को परिवर्तित करने के लिए इंवर्टर का प्रयोग किया जाता है। सोलर इंवर्टर द्वारा सोलर पैनल से बनने वाली बिजली के DC रूप को AC रूप में परिवर्तित किया जाता है। वर्तमान समय में सोलर उपकरणों के अनेक निर्माता ब्रांड बाजारों में उपलब्ध हैं। ये सोलर ब्रांड आधुनिक तकनीक के उच्च दक्षता वाले सोलर इंवर्टर का निर्माण करते हैं। सोलर इंवर्टर को PWM (Pulse Width Modulation) एवं MPPT (Maximum Power Point Tracking) तकनीक में निर्मित किया जाता है।

यह भी देखें:सोलर चार्ज कन्ट्रोलर (Solar Charge Controllers) क्या है? जाने पूरी जानकारी

सोलर चार्ज कन्ट्रोलर (Solar Charge Controllers) क्या है? जाने पूरी जानकारी

PWM तकनीक के सोलर इंवर्टर द्वारा सोलर पैनल से प्राप्त बिजली की सिर्फ करंट को नियंत्रित किया जाता है। MPPT तकनीक के सोलर इंवर्टर द्वारा सोलर पैनल से मिलने वाली बिजली की करंट एवं वोल्टेज दोनों को नियंत्रित किया जाता है। यदि आप MPPT तकनीक के सोलर इंवर्टर का प्रयोग करते हैं तो ऐसे इंवर्टर द्वारा PWM इंवर्टर से 30% अधिक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है।

3 KVA क्षमता के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम का निर्माण अनेक कंपनियां करती हैं, आप अपनी पसंद के अनुसार UTL, Microtek, Luminous आदि में से किसी भी इंवर्टर को 20,000 से 25,000 में खरीद सकते हैं। इन सोलर इंवर्टर की निर्माता कंपनियों द्वारा अपने उत्पादों पर वारंटी प्रदान की जाती है।

बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम की कुल कीमत

सोलर सिस्टम में सोलर पैनल, सोलर इंवर्टर आदि मुख्य उपकरणों के अलावा नेट-मीटर, माउंटिंग, वायरिंग, अर्थिंग, लाइटनिंग अरेस्टर आदि का प्रयोग किया जाता है। इन अन्य उपकरणों के द्वारा सोलर सिस्टम को सुरक्षा प्रदान की जाती है और कनेक्शन स्थापित किया जाता है। सोलर सिस्टम की दक्षता को बनाए रखने के लिए इन उपकरण का प्रयोग किया जाता है। इस सोलर सिस्टम में इनके खर्च को अन्य खर्च में रखा जाता है, जो लगभग 20,000 रुपये तक हो सकता है। बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम की कुल कीमत इस प्रकार होती है:-

यदि उपभोक्ता पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल का प्रयोग करें, तो कुल खर्चा:

  • 3 किलोवाट के पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की कीमत- 90,000 रुपये
  • सोलर इंवर्टर की कीमत- 20,000 रुपये
  • अन्य खर्चा- 20,000 रुपये
  • कुल खर्चा- 1,30,000 रुपये

यदि उपभोक्ता मोनो PERC सोलर पैनल का प्रयोग करें, तो कुल खर्चा:

  • 3 किलोवाट क्षमता के Mono PERC सोलर पैनल की कीमत- 1,10,000 रुपये
  • सोलर इंवर्टर की कीमत- 25,000 रुपये
  • अन्य खर्चा- 20,000 रुपये
  • कुल खर्चा- 1,55,000 रुपये

यदि उपभोक्ता बाइफेशियल सोलर पैनल का प्रयोग करें, तो कुल खर्चा:

  • 3 किलोवाट के बाइफेशियल सोलर पैनल की कीमत- 1,20,000 रुपये
  • सोलर इंवर्टर की कीमत- 25,000 रुपये
  • अन्य खर्चा- 20,000 रुपये
  • कुल खर्चा- 1,65,000 रुपये

नोट: उपर्युक्त जानकारी में दिया गया कुल खर्चा औसतन है, यह उपभोक्ता के स्थान एवं सोलर उपकरणों को खरीदने के माध्यम पर निर्भर करता है। उसमें दिए गए कुल खर्चे में सोलर सिस्टम को स्थापित करने वाले कर्मचारियों के शुल्क को नहीं जोड़ा गया है।

वर्तमान में बाजार में AC सोलर पैनल उपलब्ध हैं, जिनका प्रयोग आप अपने ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में कर सकते हैं। ऐसे सोलर सिस्टम में माइक्रो-इंवर्टर का प्रयोग किया जाता है। ऐसे सिस्टम में ग्रिड से बिजली को साझा नहीं किया जाता है, आप सीधे निर्मित बिजली का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन इस प्रकार का सोलर सिस्टम जल्दी खराब हो जाता है।

यह भी देखें:किसानों को सोलर पैनल ट्यूबवेल के लिए मिल रही 75% सब्सिडी

किसानों को सोलर पैनल ट्यूबवेल के लिए मिल रही 75% सब्सिडी

1 thought on “बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम को लगाएं, कीमत जानें”

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें