15 साल की मेंटेनेंस के साथ मिलेगा सोलर सिस्टम, पूरा ऑफर देखें

सोलर सिस्टम का प्रयोग लंबे समय तक करने के लिए आवश्यक है कि उसका रखरखाव अच्छे से किया जाए। 15 साल तक फ्री में रखरखाव कर सकते हैं।

Published By News Desk

Published on

15 साल की मेंटेनेंस के साथ मिलेगा सोलर सिस्टम, ऑफर देखें
सोलर सिस्टम

जीवाश्म ईंधन के द्वारा बिजली उत्पादन की प्रक्रिया में बहुत अधिक प्रदूषण होता है, जिससे ग्लोबल वार्मिंग एवं जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है, जो आज के समय में देखी जा सकती है। सौर ऊर्जा के प्रयोग से पर्यावरण को स्वच्छ एवं सुरक्षित रखा जा सकता है।

सौर ऊर्जा से बिजली प्राप्त करने के लिए सोलर पैनल का उपयोग किया जाता है, वर्तमान समय में 15 साल की मुफ्त मेंटेनेंस वाले सोलर सिस्टम बाजारों में उपलब्ध हो गए हैं, जिनका प्रयोग कर के घर के सभी उपकरणों को चलाने के साथ में बिजली का बिल भी कम किया जा सकता है।

भारत में केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में राज्य प्रशासन द्वारा राज्य के नागरिकों के घरों की छत पर फ्री में सोलर पैनल स्थापित किए जा रहे हैं, ऐसा करने से राज्य में नवीकरणीय ऊर्जा का उत्पादन अधिक होगा, और बिजली के बिल को कम किया जा सकेगा, जिससे राज्य के नागरिकों को भी राहत प्राप्त होगी। चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा स्थापित किए जाने वाले सोलर पैनल का रखरखाव भी 15 साल तक सिस्टम को स्थापित करने वाली कंपनी द्वारा ही किया जाएगा।

15 साल की मुफ्त मेंटेनेंस के साथ सोलर सिस्टम

चंडीगढ़ रिन्यूएबल एनर्जी साइंस एंड टेक्नोलॉजी प्रमोशन सोसाइटी (CREST) के द्वारा राज्य के नागरिकों के घरों में फ्री में सोलर पैनल स्थापित किए जा सकते हैं। चंडीगढ़ प्रशासन एवं NGO के सहयोग से 50 आवासीय वेलफेयर सोसाइटी के प्रतिनिधियों ने एक कार्यक्रम में भाग लिया। राज्य प्रशासन का इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य की नवीकरणीय ऊर्जा (सौर ऊर्जा) की क्षमता को बढ़ाना है, इस योजना में स्थापित किए जाने वाले सोलर सिस्टम पर 15 साल की मुफ्त मेंटनेंस संबंधित कंपनी द्वारा प्रदान की जाएगी।

किस क्षमता के सोलर सिस्टम पर मिलेगी 15 वर्ष की फ्री मेंटनेंस

चंडीगढ़ में फ्री सोलर सिस्टम लगाने के लिए कम से कम 5 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम को स्थापित करना होता है, राज्य के अधिक से अधिक घरों की छतों पर मुफ्त में सोलर पैनल स्थापित किए जाएंगे। जिनके माध्यम से बिजली की पूर्ति की जा सकेगी। यूरेनियम टेरिटरी के राज्य अधिकारी द्वारा कहा गया है कि इस योजना के माध्यम से कंपनियों द्वारा सोलर पैनलों की स्थापना की जाएगी, जिसके लिए उपभोक्ता को किसी प्रकार की कीमत नहीं देनी होगी। इन सोलर कंपनियों को राज्य प्रशासन द्वारा सोलर सब्सिडी प्रदान की जाएगी। एवं निःशुल्क सोलर पैनल लगाए जाएंगे।

यह भी देखें:आ गया नए जमाने का सोलर पैनल, रात में भी पैदा करेगा बिजली, जानें कीमत

आ गया नए जमाने का सोलर पैनल, रात में भी पैदा करेगा बिजली, जानें कीमत

बिजली का रेट

सोलर पैनल का प्रयोग कर के राज्य के नागरिकों को बिजली प्रदान की जाएगी, इस से बिजली के बिल को कम किया जा सकता है। सामान्यतः बिजली की कीमत प्रति यूनिट लगभग 5 रुपये से 7 रुपये है, इस योजना में सोलर पैनल लगाने के बाद प्रति यूनिट बिजली की कीमत 3.50 रुपये रखी गई है। ऐसा होने पर उपभोक्ताओं को 50 रुपये चुकाने होंगे। योजना का लाभ प्राप्त कर सोलर पैनल लगाने वाले उपभोक्ताओं को अनिश्चित समय तक बिजली बिल का भुगतान नहीं करना होगा, सीमित समय तक बिजली का बिल लिया जाएगा।

सोलर पैनल को लगाने में होने वाले कुल खर्चे के समान कीमत तक ही बिजली का बिल उपभोक्ता से लिया जाएगा, उसके बाद फ्री बिजली का लाभ प्राप्त किया जाएगा। इस प्रकार सोलर पैनल द्वारा जनरेट होने वाली बिजली का लाभ लंबे समय तक उपभोक्ता उठा सकते हैं। घर की छत पर 5 किलोवाट या उस से अधिक क्षमता के सोलर पैनल लगा कर इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। आने वाले 15 सालों तक सोलर पैनल का रखरखाव कंपनी द्वारा ही किया जाएगा।

सोलर सिस्टम को एक बार स्थापित करने के बाद उसका प्रयोग लंबे समय तक किया जा सकता है, इसलिए ही सोलर सिस्टम पर किए गए निवेश को बुद्धिमानी का निवेश कहा जाता है। सोलर पैनल का प्रयोग कर के जीवाश्म ईंधन की निर्भरता को कम किया जा सकता है, जिससे कार्बन फुटप्रिन्ट को भी कम कर सकते हैं। सोलर पैनल का अधिक से अधिक प्रयोग कर के ही हरित भविष्य की कल्पना को साकार किया जा सकता है।

यह भी देखें:गार्डन में लगने वाली सोलर लाइट मिल रही 73% की बम्पर छूट के साथ केवल 299 रुपये में

गार्डन में लगने वाली सोलर लाइट मिल रही 73% की बम्पर छूट के साथ केवल 299 रुपये में

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें