सोलर सिस्टम सब्सिडी के साथ लगाएं या बिना सब्सिडी का किसमें होगा ज्यादा फायदा, पहले जान लो

सौर ऊर्जा का बढ़ावा देने के लिए सरकार नागरिकों को सोलर पैनल लगाने के लिए सब्सिडी प्रदान कर रही है। लेकिन क्या बिना सब्सिडी वाले सोलर पैनल में ज्यादा फायदा होता है, तो चलिए पढ़ते हैं इस जानकारी के बारे में.......

Published By News Desk

Updated on

सोलर सिस्टम सब्सिडी के साथ लगाएं या बिना सब्सिडी का किसमें होगा ज्यादा फायदा, पहले जान लो
सोलर सिस्टम सब्सिडी के साथ लगाएं या बिना सब्सिडी का किसमें होगा ज्यादा फायदा, पहले जान लो

सोलर पैनल, सौर ऊर्जा को बिजली में बदलने के लिए आवश्यक होते हैं। आज के समय में सौर पैनल की डिमांड मार्केट में बढ़ती ही जा रही है लेकिन ये महंगे भी अधिक है जिन्हें आम आदमी द्वारा खरीदना मुश्किल है। परन्तु आपको बता दें सरकार सोलर पैनलों को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी दे रही है। इस सब्सिडी को प्रदान करने के लिए भारत सरकार द्वारा सोलर रूफटॉप योजना तथा पीएम घर योजना शुरू की गई ही।

इसके अतिरिक्त आप बिना सब्सिडी वाला सोलर पैनल भी चुन सकते हैं। दोनों तरह के सोलर सिस्टम के अपने अपने फायदे हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं इनमे से कौन सा सोलर पैनल सबसे बढ़िया रहता है, आइए जानते हैं इस लेख में।

यह भी पढ़ें- सोलर सिस्टम में लगाएं वारी के एडवांस बाइफेशियल सोलर पैनल, जाने कीमत

सोलर सिस्टम सब्सिडी के साथ लगाएं या बिना सब्सिडी का किसमें होगा ज्यादा फायदा?

सोलर सिस्टम सब्सिडी के साथ लगाना है अथवा बिना सब्सिडी के, यह बात कई कारकों पर निर्भर करती है। इसके लिए हमने इनके फायदे एवं नुकसान के बारे में जानकारी जान लेनी है तभी हम जान पाएंगे कि कौन सा सोलर सिस्टम बेहतर रहता है।

सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान-

फायदे- सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम आपको कम मूल्य पर मिल जाते हैं। इसमें सोलर सिस्टम के लगाने के लिए सरकार द्वारा सब्सिडी मिलती है। आम नागरिक भी सौर ऊर्जा का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

नुकसान- सब्सिडी प्राप्त करने के लिए आपको पहले सब्सिडी योजना में आवेदन करना होता है इसके बाद आवेदन स्वीकृत किया जाता है जिसके बाद आपको सब्सिडी प्रदान की जाती है। अर्थात इस प्रक्रिया में बहुत समय लगता है। सब्सिडी प्रदान करने के लिए कुछ पात्रता और शर्ते भी निर्धारित की गई है जिसके तहत ही लाभार्थी नागरिक को लाभ दिया जाता है। सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम में उपभोक्ताओं को बहुत ही कम विकल्प देखने को मिलते है अर्थात जिन सोलर पैनल पर सरकार सब्सिडी देती है आपको वही खरीदने होंगे इसके अलावा आप अन्य सोलर पैनल नहीं खरीद सकते हैं।

यह भी पढ़ें- 15 साल की मेंटेनेंस के साथ मिलेगा सोलर सिस्टम, ऑफर देखें

यह भी देखें:सोलर AC: गर्मी में धूम मचा रहा है सोलर से चलने वाला यह शानदार एसी, कीमत जानें

बिजली बिल की करें छुट्टी, ये सोलर AC लगवाएं बिल्कुल सस्ते में

बिना सब्सडी वाले सोलर सिस्टम के लाभ एवं नुकसान

फायदे- आप अपनी इच्छानुसार सोलर सिस्टम का चयन कर सकते हैं अर्थात इसमें सब्सिडी सोलर सिस्टम की तरह सीमित विकल्प ही नहीं होते है बल्कि आप अपनी पसंद का कोई भी सोलर सिस्टम चुन सकते हैं। आप बिना सब्सिडी के सोलर सिस्टम को आसानी से खरीद और लगवा सकते हैं।

नुकसान- बिना सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम की तुलना में अधिक महंगे होते हैं। आपको सरकार द्वारा कोई भी वित्तीय राशि अथवा सहायता नहीं दी जाएगी।

सब्सिडी योजना के माध्यम से सरकार केवल ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम पर ही सब्सिडी प्रदान करती है जिसके साथ आपको बैटरी नहीं दी जाएगी अर्थात आपको बैटरी बैकअप की समस्या होगी। बिना सब्सिडी के सोलर सिस्टम में आप किसी भी प्रकार के सोलर सिस्टम को चुन सकते हैं इसमें आप पैनल, बैटरी तथा इन्वर्टर खरीद सकते हैं।

अगर आप बिना सब्सिडी के 1 किलोवाट का सोलर पैनल लगाना चाहते हैं तो आपका कुल खर्चा 60 हजार रूपए तक आएगा। और अगर आप सब्सिडी के साथ यह सोलर पैनल लगवाएंगे तो आपको इसमें 30 हजार तक की सब्सिडी मिलेगी। 2kw का सोलर सिस्टम लगाने पर 60 हजार रूपए तक की सब्सिडी मिलती है, सब्सिडी के बिना इसकी कुल कीमत 1,20,000 रूपए है। और अगर आप 3kw का सोलर सिस्टम खरीदते हैं तो सरकार द्वारा इसमें 78,000 रूपए की सब्सिडी मिलती है बिना सब्सिडी के यह आपको 1,80,000 रूपए की कीमत में मिलेगा।

यह सब जनकारी जानकर आपको पता लग ही गया होगा कि सब्सिडी वाले और बिना सब्सिडी वाले सोलर पैनल दोनों के लाभ एवं नुकसान है। अगर आप कम खर्चे में सोलर पैनल लगाना चाहते हैं तो आप सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम को चुन सकते हैं यह आपके लिए बेहतर रहेगा।

यदि आपको दिन के आलावा रात को भी सोलर पैनल से ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करना है तो आप बिना सब्सिडी वाले सोलर पैनल को चुन सकते हैं। सब्सिडी वाले सोलर पैनल पर बैटरी नहीं मिलती है जिस कारण आपको बैकअप की सुविधा नहीं मिलेगी या फिर आपको अलग से खर्चा करके बैटरी लेना होगा जिससे इनकी लागत सामान ही हो जाएगी।

यह भी देखें:Renewable Energy की यह 5 सरकारी कंपनी हैं भागने को तैयार!

Renewable Energy की यह 5 सरकारी कंपनी हैं भागने को तैयार!

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें