सोलर सिस्टम में कितने सोलर पैनल लगेंगे कैसे पता करें

Published By News Desk

Published on

जब भी कोई व्यक्ति अपने घर में या किसी अन्य स्थान पर सोलर प्लांट लगाने की सोचता है तो उसके पास यह सवाल रहता है कि कितने सोलर पैनल लेगेंगे? यहाँ आप अपने इस सवाल का उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। सौर ऊर्जा का प्रयोग कर उपभोक्ता बिजली के बिल में छूट प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही यह पर्यावरण को बिना प्रदूषित किए बिजली का उत्पादन करता है। इसलिए सोलर पैनल के प्रयोग से हरित भविष्य की कल्पना की जा सकती है।

आगे हम कुछ उदाहरणों के माध्यम से समझेंगे की कैसे पता करें कि आपको अपने घर या व्यावसायिक स्थान के लिए कितने सोलर पैनल लगाने की जरूरत होगी जिससे कि आपकी बिजली की सभी आवश्यकताएं पूरी हो सकें।

सोलर सिस्टम में कितने सोलर पैनल लगेंगे कैसे पता करें
घर के लिए कितने सोलर पैनल लगेंगे

कितने सोलर पैनल लगेंगे कैसे पता करें

सोलर पैनल की स्थापना करने करने से पूर्व आपको निम्न बिंदुओं की जानकारी होनी चाहिए जिस से आप सही मात्रा में सोलर पैनल को स्थापित कर सकते हैं:

यह भी देखें:मुफ्त बिजली योजना पर यूपी से अधिक हरियाणा में मिल रही सब्सिडी, ये है अप्लाई करने का प्रोसेस

मुफ्त बिजली योजना पर यूपी से अधिक हरियाणा में मिल रही सब्सिडी, देखें अप्लाई करने का प्रोसेस

  • सबसे पहले आपको आप जिस स्थान पर सोलर पैनल स्थापित कर रहे हैं वहाँ बिजली के लोड की जानकारी होनी चाहिए। जिसकी जानकारी आप ग्रिड बिजली के मासिक बिल से या घर में लगे बिजली के मीटर से प्राप्त कर सकते हैं। बिजली का लोड देखें
  • बिजली के लोड की जानकारी होने के बाद आपको अपने स्थान पर सूर्य की स्थिति की जानकारी देखनी है, जिसे आप ऐसे समझ सकते हैं, कि यदि आप अधिक धूप वाले स्थान में रहते हैं तो आप कम पैनल में भी बिजली का उत्पादन कर सकते हैं। एवं कम धूप वाले स्थान में अधिक पैनल लग सकते हैं। धूप कितने समय तक उस क्षेत्र में रहती है यह एक महत्वपूर्ण कारक है।
  • सोलर पैनल अलग-अलग रेटिंग के बाजारों में उपलब्ध रहते हैं। उनकी दक्षता के अनुसार ही वह बिजली का उत्पादन करते हैं, यदि आप कम स्थान पर सोलर पैनल स्थापित आर अधिक बिजली प्राप्त करना चाहते हैं तो ऐसे में आपको उच्च क्षमता के सोलर पैनल स्थापित करने चाहिए। खरीदे गए सोलर पैनल के द्वारा उत्पादित होने वाली बिजली की जानकारी आपको होनी चाहिए। सोलर पैनल दक्षता के अनुसार सोलर पैनल
  • सोलर पैनल को स्थापित करने पर आपको उसे अभिविन्यास एवं कोण के अनुसार सूर्य की दिशा में स्थापित करना चाहिए, जिस से वह अधिक देर तक धूप प्राप्त कर सके, एवं अधिक से अधिक बिजली का उत्पादन कर सके।
  • यदि आप ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जहां मौसम साफ कम रहता है, ऐसे में आप यदि सोलर पैनल स्थापित करना चाहते हैं तो आपको अधिक सोलर पैनल की आवश्यकता पद सकती है। जो आधुनिक तकनीक के सोलर पैनल होने चाहिए।

सोलर पैनल की आवश्यकताओं की गणना करें

आप निम्न मानकों के आधार पर सोलर पैनल की गणना कर सकते हैं:

  • अपने घर के दैनिक बिजली के लोड को ज्ञात करने के लिए आप अपने मासिक बिल में 30 का भाग दे सकते हैं। इसमें आपको अलग-अलग मौसम के अनुसार बिजली के लोड की जानकारी होनी चाहिए। जिस से आप लोड से थोड़ा ऊपर का सोलर पैनल स्थापित कर सकते हैं।
  • सूर्य के प्रकाश के समय को आप औसतन 5 से 6 घंटे मान सकते हैं, जिस से आप सोलर पैनल के आउटपुट को प्राप्त कर सकते हैं, इसमें आपको 20% पावर लॉस को मानक रखना है।
  • अब आपके बिजली के लोड से आप सही दक्षता का सोलर पैनल प्रयोग कर सकते हैं, एवं पावर बैकअप के लिए उचित रेटिंग की बैटरी का प्रयोग कर सकते हैं।
  • सोलर पैनल की गणना के लिए (आवश्यक सौर पैनलों की संख्या= वांछित ऊर्जा उत्पादन (किलोवाट) / सौर पैनल वाट क्षमता (किलोवाट)) या (पैनलों की संख्या= सिस्टम क्षमता/उत्पादन अनुपात/पैनल वाट क्षमता) सूत्र का प्रयोग भी किया जा सकता है। सोलर पैनल की गणना करें

सोलर पैनल की गणना के उदाहरण

  • यदि आपके घर में बिजली का लोड प्रतिदिन 12 यूनिट रहता है, तो आप ऐसे में 3 किलोवाट के सोलर पैनल का प्रयोग कर सकते हैं। जिनमें आप पॉलीक्रिस्टलाइन या मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल के 330 वाट के 12 सोलर पैनल का प्रयोग कर सकते हैं।
  • यदि आपके घर में बिजली का दैनिक लोड 8 यूनिट है तो आप ऐसे में 2 किलोवाट के सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। जिसमें आप 335-watt के 6 पैनल का प्रयोग कर सकते हैं।
  • यदि आपके मासिक बिजली का लोड 600 यूनिट है, तो औसतन आपके प्रतिदिन का लोड 600/30 = 20 यूनिट प्रतिदिन। अब आपको ऐसे सोलर पैनल की आवश्यकता है, जो औसतन 5 घंटे बिजली प्राप्त कर प्रतिदिन 20 से 25 यूनिट बिजली का उत्पादन करे। ऐसे में आप 5 किलोवाट तक के सोलर पैनल को लगा सकते हैं, एवं क्षमता के अनुसार आप 420 वाट के 6 सोलर पैनल को स्थापित कर सकते हैं।

निष्कर्ष

उपर्युक्त आर्टिकल का आधार पर आप अपने सोलर प्लांट के लिए सोलर पैनल की गणना कर सकते है, इसमें सबसे जरूरी है कि आपको आपके घर या प्रतिष्ठान के बिजली के लोड की जानकारी होनी चाहिए, जिस से आप सही रेटिंग के एवं सही प्रकार के सोलर पैनल की गणना कर सकते हैं। उपयोगकर्ता अपने बजट के अनुसार सोलर पैनल का चयन कर सकते हैं।

बड़े सोलर प्लांटों में ज्यादातर पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है, ये कम कीमत के होते हैं। कम स्थान में मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल का प्रयोग किया जा सकता है। सोलर सिस्टम में निवेश कर आप लंबे समय तक इसका लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस लेख से आप कितने सोलर पैनल लगेंगे यह जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी देखें:सोलर रूफटॉप सब्सिडी योजना में कैसे और कितनी मिलेगी सब्सिडी, जानें

सोलर रूफटॉप सब्सिडी योजना में कैसे और कितनी मिलेगी सब्सिडी, जानें

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें