सोलर पैनल बैटरी और इन्वर्टर की कैलकुलेशन कैसे करें?

बिना कैलकुलेशन के सोलर प्लांट लगाने पर कम क्षमता का होने पर सही से कार्य नहीं करता है एवं अधिक क्षमता का होने पर आपको आर्थिक रूप से नुकसान होता है।

Published By SOLAR DUKAN

Published on

घर पर सोलर पैनल लगाने से पूर्व यह जानकारी होना आवश्यक है कि हमें कितनी क्षमता के solar panel की आवश्यकता है। बिजली के बैकअप के लिए कितनी बैटरियों की आवश्यकता है। एवं किस क्षमता के इन्वर्टर की जरूरत हमें पड़ने वाली है। इसके लिए हम सोलर पैनल, बैटरी और इन्वर्टर की कैलकुलेशन कैसे करें? (How to calculate Solar Panel, Battery and Inverter?) यह सवाल होना आवश्यक है।

सौर ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करने के लिए सोलर पैनल (Solar Panel) कार्य करता है। यह बिना प्रदूषण किये पर्यावरण के अनुकूल बिजली का उत्पादन करता है। यहाँ आप जान सकते हैं कि आपके घर के लिए कितने solar panel की आवश्यकता है एवं बिजली को संग्रहित करने के लिए कितनी बैटरियों की आवश्यकता आपको पड़ने वाली है।

सोलर पैनल बैटरी और इन्वर्टर की कैलकुलेशन कैसे करें?
सोलर पैनल, बैटरी और इन्वर्टर की कैलकुलेशन

Solar Panel को लगाने से पहले आप अपने घर की कुल यूनिट्स से बिजली का लोड प्राप्त कर सकते हैं। घर की बिजली का लोड जानने के लिए यहां क्लिक करें।

बिजली के लोड की गणना करें

सबसे पहले घर में बिजली के लोड की गणना करना आवश्यक है जिसे कुछ उदाहरणों के माध्यम से समझा जा सकता है एवं वाट लोड क्षमता को प्राप्त किया जा सकता है।

उदाहरण: घर में दो 50 वाट के बल्ब एवं 200 वाट का एक अन्य उपकरण उपयोग में लिया जाता है

कुल वाट क्षमता 50×2+200= 300W

अब यदि बल्बों का प्रयोग प्रतिदिन 6 घंटे एवं अन्य उपकरण का प्रयोग 3 घंटे किया जाए तो बिजली का कुल लोड: 50x2x6+200×3=1800Wh

अब प्रतिदिन में उपकरणों के प्रयोग के समय में थोड़ा अवरोध उत्पन्न हो सकता है इसलिए कुल लोड को मानक 1.5 से गुना करते हैं: 1200x१.5=1800Wh

इस से यह अर्थ निकलता है कि लोड को संचालित करने के लिए हमें ऐसे solar panel की आवश्यकता होगी जो 1800Wh वाट-घंटे की बिजली का उत्पादन कर सके।

सोलर पैनल की कैलकुलेशन

घर की बिजली के गणना करने के बाद आप यह solar panel का निर्धारण कर सकते हैं Solar panel सूर्य की ऊर्जा पर निर्भर करते हैं। इसके लिए यदि सूर्य 9 घंटे अच्छी ऊर्जा प्रदान करता हो तो:

1800Wh/9h =200 वाट

इस स्थिति में हमें 200 वाट का एक पैनल चाहिए होगा। लेकिन वर्ष में अनेक मौसम होते हैं जिस से हम यह निर्धारित नहीं कर सकते हैं कि सूर्य प्रतिदिन 9 घंटे ऊर्जा प्रदान कर सकेगा। तो ऐसे में हम 5 घंटे औसत के रूप में रखते हैं।

सोलर पैनल की कैलकुलेशन कैसे करें

1800Wh/5h =360 वाट

इस स्थिति में हम 360 वाट के solar panel का प्रयोग कर सकते हैं।

सोलर पैनल को प्रभावित करने वाले कारक

solar panel को स्थापित करने पर कुछ भौतिक कारण उन्हें प्रभावित करते हैं जो इस प्रकार हैं:

  • औसत ऊर्जा आवश्यकताएं
  • वर्तमान ऊर्जा का वाट में उपयोग
  • मौसम एवं सूर्य की ऊर्जा की मात्रा
  • Solar Panel का आकार
  • सौर पैनलों की दक्षता (Efficiency of Solar Panels)

सोलर बैटरियों की कैलकुलेशन

अब यदि सौर ऊर्जा से उत्पन्न बिजली को संग्रहित करने के लिए हमें बैटरी की गणना करनी हो तो ऐसे में हम 12v, 24v, 48v के वोल्टेज वाली बैटरियों की गणना करते हैं:

1800Wh/12v =150 Ah

चूँकि बैटरी 100% परिणाम प्रदान नहीं कर सकती है इसलिए बैटरी के उचित उपयोग के लिए 20% सहनशीलता को मान लिया जाये तो:

यह भी देखें:सौर ऊर्जा से चलने वाला सोलर फैन करें यूज, यहाँ जानें कीमत और पूरी जानकारी

इस सोलर फैन करें यूज, सौर ऊर्जा से चलने वाला बिजली बचाए, कीमत देखें

सोलर बैटरियों की कैलकुलेशन कैसे करें

150×1.2 =180Ah

अतिरिक्त दिनों तक बैटरी में हमेशा कुछ मात्रा में विद्युत सुरक्षित होती है बैटरी सामान्य उपयोग पर दोगुनी क्षमता वाली होनी चाहिए। इसलिए अंतिम परिणाम को 2 से एवं अतिरिक्त दिनों से की संख्या से गुणा करने पर(माना अतिरकित दिनों की संख्या 2 हो)

180x2x2=720 Ah

इस से यह अर्थ निकलता है कि हमें इस स्थिति में 720Ah/12v की बैटरी को अपने प्लांट में रखना होगा।

इन्वर्टर की कैलकुलेशन

सोलर सिस्टम में इन्वर्टर की गणना करने के लिए यदि आपके घर का अधिकतम लोड 100 वाट हो तो आप 100 वाट की क्षमता को नियंत्रित करने वाले 100 वाट की रेटिंग वाले इन्वर्टर का प्रयोग ही करें। इन्वर्टर में स्पाइक्स हो सकते हैं इसलिए आप को थोड़ी अधिक रेटिंग वाला जैसे 140-150 रेटिंग वाला सोलर इन्वर्टर प्रयोग में लाना चाहिए। जो सभी मापदंडो पर सही कार्य करता हो।

यदि आप भी अपने घर में solar panel को स्थापित करना चाहते हैं तो आप भारत में सोलर पैनल लगवाने के खर्च की जानकारी जानने के लिए लेख पर क्लिक करें।

सोलर पैनल, बैटरी और इन्वर्टर की कैलकुलेशन से सम्बंधित प्रश्न एवं उत्तर

यदि किसी घर में बिजली का लोड 2000 Wh हो एवं उस क्षेत्र में सूर्य से प्राप्त होने वाली ऊर्जा का औसतन समय 5 घंटे हो तो कितने वाट के solar panel का प्रयोग करना चाहिए?

बिजली का लोड 2000 Wh हो एवं सूर्य की ऊर्जा का औसतन समय 5 घंटे हो तो वहां 2000Wh/5h =400 वाट के solar panel का प्रयोग करना चाहिए।

यदि लेड एसिड बैटरी 150 Ah की है एवं उसे 400 वाट पर संचालित किया जाये। तो वह बैटरी कितने समय का बैकअप प्रदान करेगी?

150 Ah की लेड एसिड बैटरी 400 वाट पर संचालित किये जाने पर
150x12x0.75/400 = 3.3 hr अर्थात वह बैटरी 3 घंटे और 30 मिनट का बैकअप प्रदान करेगी। 0.75 बैटरी में होने वाली क्षरण का मानक है।

घर पर किसी सोलर इन्वर्टर की कैलकुलेशन कैसे करे?

इन्वर्टर की कैलकुलेशन के लिए घर के अधिकतम लोड की गणना करना आवश्यक है यदि घर का अधिकतम लोड 200 वाट प्रतिदिन हो तो इस स्थिति में 250 वाट क्षमता तक का इन्वर्टर प्रयोग करना चाहिए।

मोनोक्रिस्टलाइन एवं पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की क्षरण दर कितनी होती है?

मोनोक्रिस्टलाइन एवं पॉलीक्रिस्टलाइन solar panel की क्षरण दर क्रमशः 0.7 एवं 0.8 होती है।

solar panel किन-किन कारकों पर निर्भर रहता है?

solar panel आकार, दक्षता, मौसम एवं सौर ऊर्जा की मात्रा, बिजली के लोड आदि कारकों पर निर्भर करता है।

निष्कर्ष

सोलर पैनल, बैटरी और इन्वर्टर की कैलकुलेशन की जानकारी होने पर ही सोलर प्लांट स्थापित करना चाहिए ऐसा करने पर आप सही प्लांट का चयन करते हैं। बिना कैलकुलेशन के सोलर प्लांट लगाने पर कम क्षमता का होने पर सही से कार्य नहीं करता है एवं अधिक क्षमता का होने पर आपको आर्थिक रूप से नुकसान होता है। आप कैलकुलेशन के लिए सोलर पैनलों की जानकारी रखने वालों से भी सलाह प्राप्त कर सकते हैं। MNRE के पोर्टल पर सोलर पैनल के कैलकुलेशन के लिए solarrooftop.gov.in पर क्लिक करें।

यह भी देखें:Solar Off Grid Combo | NXG 850e, Solar Battery 150 Ah (1 N), Solar Panel 170 W (3 N)

Solar Off Grid Combo खरीदें| मिलेंगे NXG 850e, Solar Battery 150 Ah (1 N), Solar Panel 170 W (3 N)

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें