2 किलोवाट सोलर सिस्टम में क्या-क्या चला सकते हैं? जानें

Published By News Desk

Updated on

2 किलोवाट सोलर सिस्टम में क्या-क्या चला सकते हैं? जानें
2 किलोवाट सोलर सिस्टम में क्या-क्या चला सकते हैं?

सोलर सिस्टम का प्रयोग कर आर्थिक रूप से बचत की जा सकती है, सोलर सिस्टम में सौर ऊर्जा से बिजली प्राप्त कर इलेक्ट्रिक ग्रिड की निर्भरता को कम किया जा सकता है। जिस से बिजली के बिल में छूट प्राप्त की जा सकती है। साथ ही सोलर सिस्टम का प्रयोग कर के पर्यावरण को भी सुरक्षित रखा जा सकता है। क्योंकि यह पर्यावरण के अनुकूल बिना किसी प्रकार के प्रदूषण को उत्पन्न किए ही बिजली का निर्माण करने का कार्य करता है। 2 किलोवाट सोलर सिस्टम में क्या-क्या चला सकते हैं? इसकी जानकारी आप इस लेख से प्राप्त कर सकते हैं।

यहाँ क्लिक करे देखें: सोलर सिस्टम स्थापित करने के लिए सरकारी सब्सिडी प्राप्त करने की जानकारी

यदि आपके घर या प्रतिष्ठान में बिजली का लोड प्रतिदिन 10 यूनिट तक है, तो आप 2 किलोवाट सोलर सिस्टम का प्रयोग अपने घर या प्रतिष्ठान में कर सकते हैं, क्योंकि इसके द्वारा प्रतिदिन 8 यूनिट से 10 यूनिट का बिजली का उत्पादन अनुकूल कारकों की उपस्थिति में किया जा सकता है। इस सोलर सिस्टम से निर्मित बिजली का प्रयोग कर आप कौन-कौन से उपकरणों को चला सकते हैं, यह जानकारी इस लेख से आप प्राप्त कर सकते हैं।

2 किलोवाट सोलर सिस्टम का क्या मतलब होता है?

2 किलोवाट सोलर सिस्टम का मतलब यह है कि एक ऐसे सोलर सिस्टम का निर्माण करना जिसके द्वारा 2000 वाट तक के बिजली के लोड को चलाने की बिजली बनाई जा सकती है। वाट शक्ति का मात्रक है। 2 किलोवाट के सोलर सिस्टम में नागरिक अपनी आवश्यकता के अनुसार 2 किलोवाट क्षमता के पॉलीक्रिस्टलाइन या मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल का प्रयोग कर सकते हैं। एवं एक उत्कृष्ट क्षमता के सोलर इंवर्टर का प्रयोग कर सकते हैं जो 2 KVA तक का लोड चला सकता है।

2 किलोवाट सोलर सिस्टम में क्या-क्या चला सकते हैं?

सोलर सिस्टम की स्थापना के आधार पर ही यह बताया जा सकता है कि उसकी सहायता से किस प्रकार के उपकरणों को चलाया जा सकता है। सोलर सिस्टम को मुख्य रूप से ऑफग्रिड एवं ऑनग्रिड सिस्टम के अनुसार स्थापित किया जाता है। ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम में बिजली का पावर बैकअप किया जा सकता है, जिसमें सोलर बैटरियों में बिजली को जमा किया जाता है। इस प्रकार के सोलर सिस्टम में सीमित उपकरणों को चलाया जा सकता है, जबकि ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में बिजली को इलेक्ट्रिक ग्रिड के साथ शेयर किया जाता है, सभी उपकरणों को चलाया जा सकता है। 1 किलोवाट सोलर सिस्टम में चलने वाले उपकरण

2 किलोवाट के सोलर सिस्टम से इन उपकरणों को चलाया जा सकता है, इन उपकरणों को एक साथ नहीं चलाया जा सकता है, क्योंकि ऐसा करने पर सोलर सिस्टम कमजोर पड़ सकता है और खराब हो सकता है:-

यह भी देखें:सोलर पैनल लगवाने पर सरकार कितनी देती है सब्सिडी, यहाँ समझें डिटेल्स

सोलर पैनल लगाने पर कितनी सब्सिडी देती है सरकार, यहाँ देखें

  • ट्यूबलाइट
  • LED बल्ब
  • सीलिंग फैन
  • लैपटॉप एवं डेस्कटॉप कंप्यूटर
  • LED टीवी
  • रेफ्रिजरेटर (500L)
  • कूलर
  • एयर कंडीशनर (AC- 1 Ton)
  • सेट-अप बॉक्स
  • Music System
  • Laser Printer
  • Juicer Mixer Grinder
  • टोस्टर (800W तक)
  • वाशिंग मशीन

2 किलोवाट बिजली पर चलने वाले उपकरणों का विवरण

सोलर सिस्टम को ओवर-लोडिंग से बचाने के लिए सिस्टम पर केवल उचित रेटिंग के उपकरणों को ही चलाना चाहिए। इस विवरण से हम विधयुत उपकरणों की रेटिंग एवं संख्या की जानकारी देख सकते हैं, 2 किलोवाट के सोलर सिस्टम में चलने वाली उपकरणों की रेटिंग इस प्रकार हो सकती है:-

  • 3 ट्यूबलाइट (प्रति 20 वाट)- 60 वाट
  • लैपटॉप (100 वाट)- 100 वाट
  • 2 सीलिंग फैन (प्रति 75 वाट)- 150 वाट
  • 2 LEDटीवी (प्रति 100 वाट)- 200 वाट
  • रेफ्रिजरेटर (200 वाट)- 200 वाट
  • कूलर (200 वाट)- 200 वाट
  • एयर कन्डिशनर AC- 1000 वाट
  • कुल कीमत- 1910 वाट

2 किलोवाट सोलर सिस्टम में प्रयोग करें ये सोलर इंवर्टर

वर्तमान में बाजारों में एडवांस तकनीक के सोलर इंवर्टर बाजारों में उपलब्ध हैं, जिनके प्रयोग से सोलर सिस्टम को मजबूत बनाया जा सकता है। मजबूत सोलर सिस्टम में MPPT (Maximum Power Point Tracking) तकनीक के सोलर इंवर्टर का प्रयोग किया जाता है, सोलर सिस्टम को कुल वाट क्षमता से अधिक का प्रयोग कर सकते हैं, जिस से सही लोड को चलाया जा सकता है। 2 किलोवाट के सोलर सिस्टम में निम्न सोलर इंवर्टरों का प्रयोग कर सकते हैं:-

UTL Gamma+ 3350 सोलर इंवर्टर– यह आधुनिक MPPT तकनीक का सोलर इंवर्टर है, जिसके माध्यम से 3 KVA तक का लोड चलाया जा सकता है, इस सोलर इंवर्टर में 2160 वाट के सोलर पैनल जोड़े जा सकते है। इस पर लगे सोलर चार्ज कन्ट्रोलर की करंट रेटिंग 50 एम्पियर होती है। यह Pure Sine Wave आउटपुट प्रदान करता है। इस सोलर इंवर्टर की DC रेटिंग 24 वोल्ट है, अतः इस पर 2 बैटरियों को जोड़ा जा सकता है। इस सोलर इंवर्टर की UTL की आधिकारिक वेबसाइट पर लगभग 20,000 रुपये है। जिस पर 2 साल की वारंटी भी दी जाती है। UTL-Gamma-Plus-2000VA-24Volt-rMPPT-Solar-Hybrid-Inverter-Support-2000-Watt-Solar-Panels

Luminous Solarverter Pro PCU 3 KVA– ल्यूमिनस का यह सोलर इंवर्टर MPPT तकनीक का है। इस इस सोलर इंवर्टर के द्वारा 3 KVA तक का लोड चलाया जा सकता है, इस सोलर इंवर्टर पर 3500 वाट के सोलर पैनल जोड़े जा सकते है। इस पर लगे MPPT सोलर चार्ज कन्ट्रोलर की करंट रेटिंग 50 एम्पियर होती है। इस सोलर इंवर्टर पर 3 बैटरी जोड़ी जा सकती है, क्योंकि इसकी नॉमिनल वोल्टेज रेटिंग 36 वोल्ट होती है। यह सोलर इंवर्टर Pure Sine Wave आउटपुट प्रदान करता है। इस सोलर इंवर्टर की कीमत लगभग 30,000 रुपये है। Luminous Solarverter Pro Solar Inverter Price

निष्कर्ष

इस प्रकार उपर्युक्त आर्टिकल के द्वारा आप 2 किलोवाट सोलर सिस्टम में क्या-क्या चला सकते हैं? की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। सोलर सिस्टम की सहायता से घर के बिजली उपकरणों को संचालित कर इलेक्ट्रिक ग्रिड की निर्भरता को कम किया जा सकता है। जिससे बिजली की बचत की जा सकती है। सोलर सिस्टम का प्रयोग अधिक से अधिक कर के ही हरित भविष्य की कल्पना की जा सकती है। क्योंकि इसके प्रयोग से ही कार्बन फुटप्रिन्ट को कम किया जा सकता है। सोलर सिस्टम से नागरिकों को अनेक प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं।

यह भी देखें:आ गया नए जमाने का सोलर पैनल, रात में भी पैदा करेगा बिजली, जानें कीमत

आ गया नए जमाने का सोलर पैनल, रात में भी पैदा करेगा बिजली, जानें कीमत

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें