वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल- भारत की टॉप सोलर कंपनी Waaree के 1 किलोवाट सोलर सिस्टम को लगाने होगा इतना खर्चा

सोलर पैनल स्थापित कर देने के बाद आप आने वाले 25 से 30 साल तक उनसे निर्मित बिजली का लाभ उठा सकते हैं।

Published By News Desk

Published on

वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल- भारत की टॉप सोलर कंपनी Waaree के 1 किलोवाट सोलर सिस्टम को लगाने होगा इतना खर्चा
वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल

आज के समय में जहां पर्यावरण दिन प्रतिदिन प्रदूषित होता जा रहा है, जिसके समाधान के लिए अपनी ऊर्जा की आवश्यकताओं को नवीकरणीय ऊर्जा के द्वारा पूरा करने के लिए कार्य किये जा रहे हैं। सूर्य प्राकृतिक ऊर्जा का एक बहुत बड़ा स्रोत है, जो अरबों सालों से हमें प्रचुर मात्रा में ऊर्जा प्रदान कर रहा है, सौर ऊर्जा के माध्यम से विद्युत ऊर्जा प्राप्त करने के लिए सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है। जिसके लिए आज के समय में बाजारों में अनेकों ब्रांड के सोलर उपकरण उपलब्ध हैं, ऐसे ही भारत की अग्रणी सोलर कंपनी वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल (Waaree 1 KW Solar Panel) की जानकारी यहाँ दी गई है।

यह भी देखें: Waaree के 5 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम को लगाने में होने वाले खर्चे की जानकारी यहाँ क्लिक कर देखें।

Waaree 1 Kw सोलर सिस्टम को लगाने का कुल खर्चा

किसी भी सोलर सिस्टम को लगाने में होने वाले कुल खर्चे की गणना उसमें प्रयोग होने वाले उपकरणों के प्रकार एवं सोलर सिस्टम के प्रकार पर निर्भर करती है। सोलर सिस्टम मुख्य रूप से ऑनग्रिड एवं ऑफग्रिड स्थापित किये जाते हैं। ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर पैनल से बनने वाली बिजली को संग्रहीत नहीं किया जाता है, उसे इलेक्ट्रिक ग्रिड के साथ शेयर कर दिया जाता है। ऑफग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर पैनल से बनने वाली बिजली को सोलर बैटरियों में जमा किया जा सकता है, जिसका प्रयोग आवश्यकता पड़ने पर पावर बैकअप के रूप में किया जाता है। इन सोलर सिस्टम में होने वाले औसतन खर्चे इस प्रकार होते हैं:-

ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को लगाने में:-

  • वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल (पॉलीक्रिस्टलाइन) की कीमत- 25,500 रुपये
  • 1 KVA On-Grid Solar Inverter की कीमत- 15,000 रुपये
  • अन्य खर्चे- 5,500 रुपये
  • कुल खर्च- 46,000 रुपये

ऑफग्रिड सोलर सिस्टम को लगाने में:-

  • वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल (मोनोक्रिस्टलाइन) की कीमत- 26,000 रुपये
  • Microtek 2335 VA Solar Inverter की कीमत- 12,000 रुपये
  • Lithium Battery-2000 watt-hour (1) की कीमत- 25,000 रुपये
  • अन्य खर्चे- 7,000 रुपये
  • कुल खर्च- 70,000 रुपये

ऊपर दिया गया खर्चा औसतन है, यह उपभोक्ता के स्थान के अनुसार कम या ज्यादा हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए आप Waaree Energies Limited की आधिकारिक वेबसाइट में जा सकते हैं। इस सोलर सिस्टम में प्रयोग होने वाले उपकरणों की जानकारी आगे दी गई है।

वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल

1 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल का प्रयोग ऐसे स्थानों पर किया जाता है, जहां प्रतिदिन बिजली का लोड बिजली का लोड 3 से 5 यूनिट तक रहता है। 1 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल 5 यूनिट तक बिजली का उत्पादन प्रतिदिन करने में सक्षम होते हैं। Waaree Energies Limited द्वारा पॉलीक्रिस्टलाइन, मोनोक्रिस्टलाइन, बाइफेशियल एवं फ्लेक्सिबल प्रकार के सोलर पैनल का निर्माण किया जाता है, उपभोक्ता अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी प्रकार के अलग-अलग क्षमता के वारी 1 किलोवाट सोलर पैनल का प्रयोग अपने सोलर सिस्टम में कर सकता है। जिनकी औसतन कीमत निम्नलिखित हो सकती है:- Waaree के 5 Kw क्षमता के सोलर पैनल

  • Waaree 1 किलोवाट पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल– इसमें वारी के 335 वाट क्षमता के 3 सोलर पैनल का प्रयोग किया जा सकता है। जिनकी कुल कीमत लगभग 25,500 रुपये हो सकती है। 335 wp के एक सोलर पैनल की कीमत 8,543 रुपये है। वारी द्वारा इस पर उपभोक्ता को 10 वर्ष की प्रोडक्ट वारंटी एवं 25 वर्ष की कार्य प्रदर्शन वारंटी प्रदान की जाती है।
  • Waaree 1 किलोवाट मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल– मोनो PERC सोलर पैनल में 535 वाट के 2 सोलर पैनल का प्रयोग 1 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम में किया जा सकता है। जिनकी कुल कीमत लगभग 26 हजार रुपये हो सकती है। इनमें से प्रत्येक सोलर पैनल की कीमत 12,799 रुपये है। इस प्रकार के सोलर पैनल पर निर्माता ब्रांड द्वारा 12 वर्ष की प्रोडक्ट वारंटी एवं 27 वर्ष की कार्य प्रदर्शन वारंटी दी जाती है।
  • Waaree 1 किलोवाट बाइफेशियल सोलर पैनल– यदि आप अत्याधुनिक तकनीक के बाइफेशियल सोलर पैनल का प्रकार कर 1 किलोवाट क्षमता का सोलर सिस्टम लगाना चाहते हैं तो आप वारी द्वारा बनाए गए 525 वाट के 2 सोलर पैनल का प्रयोग कर सकते हैं, जिनकी कुल कीमत लगभग 25,000 रुपये हो सकती है। इनमें एक सोलर पैनल की कीमत 12,499 रुपये है। वारी द्वारा इन पर 12 वर्ष की उत्पाद वारंटी एवं 30 वर्ष की कार्य प्रदर्शन वारंटी दी जाती है।

Waaree 1 kw Solar System में सोलर इंवर्टर

सोलर पैनल के द्वारा सौर ऊर्जा को दिष्ट धारा DC के रूप में परिवर्तित किया जाता है। सोलर सिस्टम में सोलर इंवर्टर द्वारा DC को AC प्रत्यावर्ती धारा में बदला जाता है। क्योंकि अधिकांश विद्युत उपकरण AC के द्वारा ही चलाए जा सकते हैं। ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में प्रयोग होने वाले 1 KVA On-Grid Solar Inverter की कीमत लगभग 15,000 रुपये तक है। ऑफग्रिड सोलर सिस्टम में प्रयोग किये जाने वाले Microtek 2335 VA Solar Inverter की कीमत लगभग 12,000 रुपये है। किसी भी सोलर सिस्टम में आप उसकी क्षमता से थोड़ी अधिक क्षमता वाला सोलर इंवर्टर लगा सकते हैं, जिस से भविष्य में अपने सोलर सिस्टम को बढ़ाया जा सकता है।

यह भी देखें:Adani Topcon सोलर पैनल, सबसे हाई-टेक्नोलॉजी वाले सोलर पैनल, फाइनेंस और सब्सिडी के साथ

Adani Topcon सोलर पैनल, सबसे हाई-टेक्नोलॉजी वाले सोलर पैनल, फाइनेंस और सब्सिडी के साथ

Waaree 1 KW सोलर सिस्टम में सोलर बैटरी

ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम में बैटरी का प्रयोग उपभोक्ता अपनी पावर बैकअप की आवश्यकता एवं बजट के अनुसार कर सकते हैं। यदि आप सामान्य सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं तो आप सोलर ट्यूबलर बैटरी का प्रयोग अपने सोलर सिस्टम में कर सकते हैं, जिनकी कीमत बाजारों में 15 हजार रुपये से शुरू होती है। यदि आप आधुनिक सोलर सिस्टम स्थापित करते हैं, तो Waaree की Lithium Battery-2000 watt-hour की कीमत लगभग 25,000 रुपये है। लिथियम आयन बैटरी की लाइफ साइकिल 5 साल तक बताई गई है। यह अन्य बैटरियों से अधिक पावर बैकअप उपभोक्ता को प्रदान करती है।

सोलर सिस्टम में अन्य अन्य खर्च

किसी भी क्षमता के सोलर सिस्टम में में प्रयुक्त होने वाले मुख्य उपकरणों की सुरक्षा के लिए अन्य महत्वपूर्ण उपकरणों का प्रयोग किया जाता है, 1 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम में 2 Panel MC4 connectors pair, 2 Wire In, 1 Wire Out, Solar DC cable, 6 sq mm, 15 Meters Pair, solar 2 panel stand (Shark 440W) आदि का प्रयोग किया जा सकता है।

इस सोलर सिस्टम में अन्य खर्च लगभग 7,000 रुपये तक हो सकता है। हमारे द्वारा बताए गए अन्य खर्च में सोलर सिस्टम को स्थापित करने वाले एक्सपर्ट कर्मचारियों के भुगतान शुल्क को नहीं जोड़ा गया है। यह उपभोक्ता के स्थान के आधार पर अलग-अलग हो सकता है।

1 किलोवाट के सोलर पैनल से कौन से उपकरण चला सकते हैं?

1 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल से बनने वाली बिजली के द्वारा निम्नलिखित उपकरणों को संचालित किया जा सकता है:-

  • 1 किलोवाट ऑफग्रिड सोलर सिस्टम के सोलर पैनल 2 या 3 Bhk अपार्टमेंट को बिजली देने के लिए पर्याप्त है, इस सोलर सिस्टम से 4 घंटे तक तीन पंखे, एक रेफ्रिजरेटर, एक टीवी, एक पीसी/लैपटॉप, चार से पांच LED बल्ब चलाए जा सकते हैं। इसमें बैटरी में जमा बिजली का प्रयोग किया जाता है।
  • यदि 1 किलोवाट ऑनग्रिड सोलर सिस्टम लगाया गया हो तो एसी, वॉशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर और वॉटर पंप जैसे उपकरणों को घंटों तक चलाया जा सकता है। क्योंकि इस सिस्टम में ग्रिड की बिजली का प्रयोग किया जाता है।

ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को कम बिजली कटौती वाले स्थान के लिए उपयुक्त कहा जाता है, इस से बिजली के बिल को शून्य किया जा सकता है एवं आर्थिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। ऑफग्रिड सोलर सिस्टम का प्रयोग अधिक बिजली कटौती वाले स्थान में किया जा सकता है। इस से उपभोक्ता आवश्यकता पड़ने पर बिजली का प्रयोग कर सकता है।

निष्कर्ष

वारी ब्रांड के सोलर उपकरण अपनी विश्वसनीयता एवं उच्च कार्य क्षमता के लिए प्रसिद्ध हैं। 1 किलोवाट क्षमता का सोलर सिस्टम अधिक दक्षता प्रदान करता है, इस सोलर सिस्टम को कीमत भी कम होती है। सोलर सिस्टम में किया गया निवेश बुद्धिमानी का निवेश कहा जाता है, क्योंकि एक बार सोलर पैनल स्थापित कर देने के बाद आप आने वाले 25 से 30 साल तक उनसे निर्मित बिजली का लाभ उठा सकते हैं। एवं पर्यावरण को सुरक्षित रखने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग दे सकते हैं। सोलर सिस्टम के प्रयोग से ही हरित भविष्य की कल्पना की जा सकती है।

यह भी देखें:सोलर पैनल लगाने पर टैक्स और वित्तीय लाभ

सोलर पैनल लगाने पर टैक्स और वित्तीय लाभ

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें