केवल इतना है खर्चा TATA कंपनी का 6Kw सोलर सिस्टम लगवाने में, 25 साल तक की लंबी वारंटी

टाटा कंपनी के सोलर पैनल लगा कर आप एक कुशल सोलर सिस्टम स्थापित कर सकते हैं, इनके द्वारा उपभोक्ता को अपने सोलर उपकरण पर लंबें समय की वारंटी प्रदान की जाती है।

Published By News Desk

Published on

जीवाश्म ईंधम का प्रयोग पर्यावरण को बहुत अधिक मात्रा में नुकसान पहुंचाता है, जिस से वर्तमान समय में जलवायु परिवर्तन एवं ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्याएं देखने को मिल रही है। भविष्य को सुरक्षित करने के लिए आवश्यक है, कि हम आज के समय की आधुनिक तकनीक का प्रयोग करें। जिसके लिए नवीकरणीय ऊर्जाओं का प्रयोग किया जा सकता है। सौर ऊर्जा भविष्य की ऊर्जा है, जिस से बिजली प्राप्त करने के लिए सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है। तो चलिए देखते है 6Kw सोलर सिस्टम लगाने में कुल कितना खर्च होगा।

Tata 6KW Solar System: इतना हो रहा खर्चा TATA कंपनी का 6Kw सोलर सिस्टम लगवाने में, 25 साल तक की लंबी वारंटी
Tata 6KW Solar System

Tata Power Solar भारत की टॉप सोलर उपकरण निर्माता कंपनियों में से एक है। जिसके सोलर उपकरणों का प्रयोग कर आप एक कुशल एवं मजबूत सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। सोलर सिस्टम को स्थापित कर के बिजली के भारी बिल से उपभोक्ता को छूट प्राप्त हो सकती है, और सोलर पैनल को स्थापित कर के उनके द्वारा आने wale 25 साल तक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है। जिसके लिए निर्माता ब्रांड TATA द्वारा सोलर पैनल पर 25 वर्ष की वारंटी भी प्रदान की जाती है।

Tata 6KW Solar System

यदि आपके घर या प्रतिष्ठान में प्रतिदिन बिजली का लोड 30 यूनिट तक रहता है, तो आप 6 किलोवाट के सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। 6 किलोवाट के सोलर सिस्टम में लगे हुए सोलर पैनल के माध्यम से प्रतिदिन 30 यूनिट तक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है। सोलर सिस्टम को लगाने में होने वाला खर्चा उसमें प्रयुक्त होने वाले उपकरणों एवं सोलर सिस्टम के प्रकार पर निर्भर करता है। सोलर सिस्टम सामान्यतः ऑनग्रिड, ऑफग्रिड एवं हाइब्रिड प्रकार से स्थापित किया जाता है।

सामान्यतः सोलर सिस्टम में पॉलीक्रिस्टलाइन या मोनोक्रिस्टलाइन प्रकार के सोलर पैनल का प्रयोग आप कर सकते हैं। सोलर सिस्टम के प्रकार को उपभोक्ता अपनी बिजली की आवश्यकताओं के अनुसार स्थापित कर सकते हैं। जिस से वे सोलर सिस्टम का प्रयोग उचित रूप से कर सकते हैं। सोलर सिस्टम में सोलर इंवर्टर द्वारा दिष्ट धारा DC को प्रत्यावर्ती धारा AC में परिवर्तित करने के लिए स्थापित किया जाता है। एवं सोलर पैनल से बनने वाली बिजली को संग्रहीत करने के लिए सोलर बैटरियों का प्रयोग किया जाता है।

Tata 6KW ऑन-ग्रिड Solar System

ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर पैनल से बनने वाली बिजली को इलेक्ट्रिक ग्रिड के साथ शेयर किया जाता है। इस प्रकार के सोलर सिस्टम में सभी विद्युत उपकरणों को संचालित किया जा सकता है। क्योंकि इसमें इलेक्ट्रिक ग्रिड का ही प्रयोग उपभोक्ता करता है। यदि ग्रिड की बिजली जाती है तो इसमें किसी प्रकार से पावर बैकअप नहीं रखा जाता है। इस प्रकार के सोलर सिस्टम को स्थापित करने से बिजली के बिल को कम किया जाता है, और सोलर सिस्टम से बनने वाली अतिरिक्त बिजली को अपने डिस्कॉम को बेच कर पैसे भी कमाए जा सकते हैं।

इलेक्ट्रिक ग्रिड को आपके सोलर सिस्टम द्वारा भेजी जानी वाली बिजली की गणना करने के लिए सिस्टम में नेट-मीटर को स्थापित किया जाता है। इस सोलर सिस्टम में बैटरी का प्रयोग नहीं किया जाता है। इसमें प्रयोग किए जाने वाले उपकरण सोलर पैनल, सोलर इंवर्टर एवं नेट-मीटर होते हैं। Tata 6KW Solar System को ऑनग्रिड स्थापित करने में लगभग 3 लाख रुपये तक का खर्चा हो सकता है। 6 किलोवाट क्षमता के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम पर सोलर रुफटॉप सब्सिडी योजना से पहले 3 किलोवाट पर 40% एवं उसके बाद के 3 किलोवाट पर 20% की सब्सिडी प्राप्त की जा सकती है। जिस से इसमें होने वाले प्राथमिक निवेश को कम किया जा सकता है।

यह भी देखें:Waaree बाइफेशियल सोलर पैनल अब केवल ₹25/वाट खर्च पर मिलेगा, जानिए पूरी जानकारी

Waaree बाइफेशियल सोलर पैनल अब केवल ₹25/वाट खर्च पर मिलेगा, जानिए पूरी जानकारी

Tata 6KW ऑफ-ग्रिड Solar System

ऑफग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर बैटरियों का प्रयोग कर के पावर बैकअप किया जाता है, जिसका प्रयोग उपयोगकर्ता अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकता है। ऑफग्रिड सोलर सिस्टम ऐसे स्थानों के लिए उपयुक्त माना जाता है, जहां इलेक्ट्रिक ग्रिड बिजली की कटौती बहुत अधिक मात्रा में होती है। इस प्रकार के सोलर सिस्टम को लगा कर इलेक्ट्रिक ग्रिड की निर्भरता को कम किया जा सकता है।

Tata 6KW Solar System को ऑफग्रिड स्थापित करने पर लगभग 4.50 लाख रुपये तक का खर्चा हो सकता है। इस प्रकार के सोलर सिस्टम में आप अपनी पावर बैकअप की आवश्यकता के अनुसार सोलर बैटरी का चयन कर सकते हैं। जिनमें कम पावर बैकअप के लिए 100 Ah व अधिक पावर बैकअप के लिए आप 150 Ah या 200 Ah की सोलर बैटरी का प्रयोग कर सकते हैं। आज के समय में लिथियम आयन जैसी आधुनिक बैटरियाँ भी बाजार में उपलब्ध हैं।

Tata 6KW हाइब्रिड Solar System

यदि आप आधुनिक प्रकार का सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं तो आप हाइब्रिड सोलर सिस्टम लगा सकते हैं। इस प्रकार के सोलर सिस्टम में ऑनग्रिड एवं ऑफग्रिड दोनों प्रकार से सोलर सिस्टम का प्रयोग किया जा सकता है, जिसमें उपयोगकर्ता इलेक्ट्रिक ग्रिड से बिजली साझा भी कर सकता है, एवं पावर बैकअप के लिए सोलर बैटरियों को भी जोड़ सकता है। Tata 6KW Solar System को हाइब्रिड सिस्टम में आप लगभग 6 लाख रुपये तक में स्थापित कर सकते हैं।

टाटा सोलर पावर के सोलर उपकरणों पर आपको लंबे समय तक कार्य प्रदर्शन करने की वारंटी प्रदान की जाती है, सोलर सिस्टम पर एक बार निवेश कर के आप लंबे समय तक सोलर पैनल से बनने वाली बिजली का प्रयोग फ्री में कर सकते हैं। साथ ही आप सोलर सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए मिनोक्रिस्टलाइन या बाइफेशियल तकनीक के सोलर पैनल का प्रयोग भी कर सकते हैं। इन्हें स्थापित कर के आप अनेक सुविधाओं को प्राप्त कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए आप टाटा पावर सोलर की आधिकारिक वेबसाइट में जाएँ।

निष्कर्ष

इस लेख के द्वारा आप Tata 6KW Solar System में प्रयोग होने वाले उपकरण एवं उसमें होने वाले औसतन खर्चे की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। सोलर सिस्टम पर किए गए निवेश की बुद्धिमानी का निवेश कहा जाता है, क्योंकि यह इलेक्ट्रिक ग्रिड की निर्भरता को कम कर बिजली बिल को भी कम करता है, साथ ही अतिरिक्त बिजली को बेच कर आर्थिक रूप से लाभ देता है। और इसके प्रयोग से जीवाश्म ईंधन के प्रयोग को खत्म किया जा सकता है, जिससे कार्बन फुटप्रिन्ट को कम किया जा सकता है, एवं हरित भविष्य की कल्पना को साकार किया जा सकता है।

यह भी देखें:Winsol Engineers के शेयर में जबरदस्त उछाल, 8 दिन में 526% का रिटर्न, पैसे लगाने वाले हुए मालामाल

Winsol Engineers के शेयर में जबरदस्त उछाल, 8 दिन में 526% का रिटर्न, पैसे लगाने वाले हुए मालामाल

3 thoughts on “केवल इतना है खर्चा TATA कंपनी का 6Kw सोलर सिस्टम लगवाने में, 25 साल तक की लंबी वारंटी”

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें