घर में लगाएं TATA 3 Kw सोलर सिस्टम, देखें कितना खर्चा होगा

टाटा पावर सोलर भारत की टॉप सोलर कंपनी है, इसके उपकरणों का प्रयोग कर के आप एक कुशल सोलर सिस्टम स्थापित कर सकते हैं।

Published By SOLAR DUKAN

Published on

सरकार द्वारा भी अपने नागरिकों को सोलर सिस्टम को स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है, केंद्र एवं राज्य दोनों ही सरकारें अपने स्तर से नागरिकों को सोलर सिस्टम स्थापित करने के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। सोलर सिस्टम की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि ये पर्यावरण के अनुकूल बिजली का उत्पादन करते हैं, साथ ही इनके प्रयोग से जीवाश्म ईंधन एवं ग्रिड बिजली की निर्भरता कम होती है।

TATA 3 Kw सोलर सिस्टम (TATA 3 Kw Solar System Cost) को स्थापित करने में होने वाले खर्चे की पूरी जानकारी यहाँ जानें। सरकार द्वारा प्रदान होने वाली सब्सिडी को प्राप्त कर आप इसे स्थापित कर कुछ छूट प्राप्त कर सकते हैं। सोलर पैनल को स्थापित करने से उपयोगकर्ताओं को अनेकों लाभ होते हैं। टाटा पावर सोलर भारत में सोलर उपकरणों का निर्माण करने वाली एक अग्रणी कंपनी है। जिसके सोलर सिस्टम आवासीय, वाणिज्यिक एवं औद्योगिक क्षेत्रों में स्थापित किए जाते हैं।

घर में लगाएं TATA 3 Kw सोलर सिस्टम, देखें कितना खर्चा होगा
TATA 3 किलोवाट सोलर सिस्टम में कितना खर्चा होगा

TATA 3 Kw सोलर सिस्टम

किसी भी क्षमता के सोलर सिस्टम को लगाने से पहले आपको अपने घर या प्रतिष्ठान (जहां आप सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं) में बिजली के लोड की जानकारी होनी चाहिए, जिसके जानकारी आप ग्रिड से प्राप्त बिजली बिल या मीटर के द्वारा प्राप्त कर सकते हैं। यदि आपके स्थान में प्रतिदिन 2500 वाट से 3000 वाट बिजली का लोड है तो आप 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं, 3 किलोवाट का सोलर सिस्टम प्रतिदिन अगर कोई कारक (सूर्य की मात्रा, मौसम) प्रभावित न करे तो 12 यूनिट से 15 यूनिट तक बिजली का उत्पादन करते हैं। जिससे आप अपने घर के सभी उपकरणों को संचालित कर सकते हैं।

उपभोक्ता अपनी आवश्यकता के अनुसार ऑफग्रिड सोलर सिस्टम या ग्रिड-टाई सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। ऑफग्रिड सोलर सिस्टम में पावर बैकअप के लिए सोलर बैटरी का प्रयोग किया जा सकता है, जबकि ग्रिड टाई में सोलर पैनल से प्राप्त बिजली को ग्रिड के साथ साझा किया जाता है, जिसमें आपके द्वारा उत्पादित बिजली की गणना करने के लिए नेट-मीटर का प्रयोग किया जाता है। इसमें पावर बैकअप नहीं रखा जा सकता है।

TATA 3 Kw सोलर पैनल की कीमत

एक पूरे सोलर सिस्टम का सबसे मुख्य एवं महत्वपूर्ण उपकरण सोलर पैनल होते हैं, सोलर पैनल में लगे फ़ोटोवोल्टिक सेल (PV Cell) सूर्य से प्राप्त होने वाली सौर ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करने का कार्य करते हैं, 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम में 330 वाट के 9 सोलर पैनल प्रयोग किए जाएंगे, जिनकी कुल कीमत लगभग 90,000 रुपये तक हो सकती है। इन्हें स्थापित करने के लिए लगभग 300-500 मीटर2 स्थान की आवश्यकता होती है। उपभोक्ता पॉलीक्रिस्टलाइन एवं मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल में से किसी भी प्रकार के सोलर पैनल लगा सकते हैं। tata solar panel price list in india

सोलर पैनल में पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की कीमत कम होती है, इसलिए इनका प्रयोग सबसे अधिक किया जाता है। जबकि मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल उच्च दक्षता के सोलर पैनल होते हैं, इनकी कीमत अधिक होती है। एवं इनके लाभ भी अधिक होते हैं।

3 किलोवाट सोलर इंवर्टर की कीमत

3 किलोवाट सोलर सिस्टम में ऐसे सोलर इंवर्टर का प्रयोग किया जाता है, जो 3000 वाट के बिजली के लोड को आसानी से उठा सकता है। सोलर इंवर्टर का मुख्य कार्य सोलर पैनल से प्राप्त होने वाली DC को AC में बदलना है, जिससे घर या प्रतिष्ठान के अधिकांश उपकरण चलाए जाते हैं। सोलर इंवर्टर MPPT एवं PWM तकनीक के सोलर चार्ज कन्ट्रोलर की तकनीक से बाजारों में उपलब्ध हैं। 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम के लिए ऑफग्रिड/ऑनग्रिड सोलर इंवर्टर का प्रयोग किया जा सकता है, जिसकी कीमत लगभग 40,000 रूपये तक हो सकती है।
टाटा सोलर इंवर्टर

3 किलोवाट के सोलर सिस्टम के लिए बैटरी की कीमत

सोलर सिस्टम में बैटरी लगाने से पूर्व उपयोगकर्ता को इंवर्टर की डीसी रेटिंग की जानकारी होनी चाहिए, उस आधार पर ही बैटरी की संख्या आप जान सकते हैं, 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम में 150 Ah 3 बैटरियों को जोड़ा जा सकता है, जिनकी कुल कीमत लगभग 40,000 रुपये तक हो सकती है। अधिक बैकअप की आवश्यकता वाले उपभोक्ता उच्च रेटिंग की बैटरियों का प्रयोग कर सकते हैं। टाटा सोलर बैटरी

स्थापना में अतिरिक्त खर्च

एक पूरे सोलर सिस्टम में सोलर पैनल, सोलर इंवर्टर, सोलर बैटरी के अलावा एसीडीबी/डीसीडीबी बॉक्स, पैनल स्टैंड एवं वायर का प्रयोग भी किया जाता है। सोलर पैनल की स्थापना के चार्ज को भी अतिरिक्त खर्चों में इन छोटे उपकरणों के साथ रखा जाता है, 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम को स्थापित करने में कुल अतिरिक्त खर्च 30,000 रुपये तक हो सकता है।

यह भी देखें:अब लगाएं TATA 5 Kw सोलर सिस्टम सस्ते में खर्चा और सब्सिडी देखें

अब लगाएं TATA 5 Kw सोलर सिस्टम सस्ते में खर्चा और सब्सिडी देखें

TATA 3 Kw सोलर सिस्टम का कुल खर्चा

टाटा का 3 किलोवाट क्षमता का सोलर सिस्टम स्थापित कर आप अपने घर के सभी उपकरणों को आसानी से संचालित कर सकते हैं। इस लेख में दी गई कीमतें औसतन हैं। यह अलग-अलग राज्य में अलग-अलग हो सकती है। अधिक जानकारी के लिए आप TATA Power Solar की आधिकारिक वेबसाइट में जा सकते हैं, 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम की औसतन कीमत सारणी के अनुसार समझ सकते हैं।

TATA 3 Kw सोलर सिस्टम उपकरणों की कीमतें
सोलर पैनल (330w x 9)90,000 रुपये
Tata On-Grid/Off-grid सोलर इनवर्टर40,000 रुपये
3 x 150Ah सोलर बैटरी40,000 रुपये
माउंटिंग और इंस्टालेशन30,000 रुपये
कुल खर्च2,00,000 रुपये

3 किलोवाट के सोलर सिस्टम पर सब्सिडी पाएं

3 किलोवाट के सोलर सिस्टम को स्थापित करने के लिए यदि आप सरकार द्वारा सब्सिडी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको सरकार द्वारा संचालित सोलर सब्सिडी योजनाओं का आवेदन करना होता है, जिनके अनुसार आप 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम को स्थापित करने पर 40% सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं। सब्सिडी प्राप्त करने के लिए आपको ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम स्थापित करना होता है। 3 किलोवाट के सोलर सिस्टम में आप लगभग 40,000 रुपये की सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं। ऐसे में आप यह सोलर सिस्टम 1,30,000 रुपये तक में स्थापित कर सकते हैं।

3 किलोवाट के सोलर पैनल पर प्राप्त सब्सिडी को कैलकुलेट करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें : Solar Rooftop Calculator

TATA 3 Kw के सोलर सिस्टम से संबंधित प्रश्न एवं उत्तर

टाटा के सोलर पैनल की मुख्य विशेषताएं बताएं?

टाटा के सोलर पैनल 25 वर्षों तक 80% बिजली का उत्पादन की वारंटी प्रदान करते हैं। उसके बाद भी ये बिजली का उत्पादन करने में सक्षम होते हैं।

TATA 3 Kw क्षमता का सोलर सिस्टम स्थापित करने में कितना खर्चा होगा?

3 किलोवाट के ऑनग्रिड सोलर सिस्टम को सब्सिडी के साथ आप लगभग 1,30,000 रुपये में स्थापित कर सकते हैं। जबकि ऑफग्रिड सोलर सिस्टम लगभग 2,00,00 रुपये में स्थापित हो सकता है।

3 किलोवाट क्षमता का सोलर सिस्टम कितनी बिजली का उत्पादन करता है?

3 किलोवाट क्षमता का सोलर सिस्टम औसतन 5 घंटे सूर्य के प्रकाश होने पर प्रतिदिन 12 से 15 यूनिट बिजली का उत्पादन कर सकता है।

टाटा सोलर पावर की स्थापना कब हुई?

सोलर पैनल में भारत की नंबर 1 कंपनी टाटा सोलर पावर की स्थापना 1989 में हुई।

ऊपर दिए गए लेख के माध्यम से आप टाटा के 3 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम में होने वाले खर्चे की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। यह पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक है, सोलर सिस्टम के प्रयोग से ही हरित भविष्य की कल्पना की जा सकती है। क्योंकि यह किसी भी प्रकार के प्रदूषण को उत्पन्न नहीं करता है।

यह भी देखें:सोलर पैनल बनाने की प्रक्रिया जानें

सोलर पैनल बनाने की प्रक्रिया जानें

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें