Solar Panel कैसे सौर ऊर्जा को बिजली में बदलता है, जानें

Published By News Desk

Published on

आजकल अक्सर लोग अपने घरों में सोलर पैनल सोलर पैनल लगवा रहे हैं लेकिन फिर भी क्या कभी आपने यह सोचा है, कि एक सोलर सिस्टम सूर्य से मिलने वाली ऊर्जा को विधुत ऊर्जा में कैसा बदल देता है। तो आइए आज हम आपको बताते हैं, कि एक सोलर पैनल धूप को बिजली में कैसे बदलता है। अगर आप पूरी जानकारी के साथ इस विषय में जानना चाहते है तो उसके लिए आप हमारे द्वारा लिखे गए इस आर्टिकल के लेख अंत तक पूरा पढ़े

Solar Panel कैसे सौर ऊर्जा को बिजली में बदलता है

एक सोलर पैनल में सिलिकॉन सेल लगे रहते हैं। जो एक मैजिक सेल का काम करते हैं जिसमें इलेक्ट्रॉन की मात्रा अधिक होती है। इसलिए जब सूर्य की किरणे इन प्लेटों पर पड़ती है। तो इसमें लगे हुए इलेक्ट्रॉन एक्टिव हो जाते है और सूर्य के ताप से और भी अधिक इलेक्ट्रॉन बनाना शुरू हो जाते हैं। फिर जब सोलर पैनलों में इलेक्ट्रॉन का अधिक प्रवाह बनने लगता है। तो इलेक्ट्रॉन के इस तेज प्रवाह से पैनल में करंट बन जाता है। जिसे इवर्टर के माध्यम से DC, AC में बदल दिया जाता है।

Solar Panel कैसे सौर ऊर्जा को बिजली में बदलता है, जानें
सोलर पैनल धूप को बिजली में कैसे बदलता है, जानें

सूर्य की रोशनी में बिजली बनाने के लिए क्या होता है?

सूर्य की किरणों में बिजली बनने के लिए ऐसा कुछ खास तो नहीं होता है। सिर्फ सूर्य से मिलने वाली ऊर्जा के ताप से बिजली बनती है। क्योकि जब सौर ऊर्जा किसी भी तरह के पदार्थ से टकराती है। तो वह अपने ताप से किसी वस्तु को गर्म कर देती हैं। ठीक इसी प्रकार सोलर पैनल जब सूर्य की किरणे पड़ती है। तो उससे मिलने वाली हीट से वह बिजली उत्पन करता है।

क्या बिना सोलर पैनल के धूप को बिजली में बदला जा सकता है?

सोलर पैनल के बिना भी आजकल आप एक टॉवर के माध्यम से भी बिजली उत्पन कर सकते हैं। इस टॉवर में कई सारी कांच से लाइट रिफलेक्ट होती है। जिसका उपयोग बिजली बनाने और साथ में एक टरबाइन चलाने के भी काम आता है।

सोलर पैनल पर मिलने वाली सब्सिडी चेक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

सूर्य से मिलने वाली ऊर्जा क्या है?

भारत में सूर्य करीबन 3 सौ दिन तक प्रकाश देता है। सूर्य की किरणों में काफी अधिक ऊर्जा होती है। इसलिए इस ऊर्जा को सिलिकॉन सेल से बने जो डिवाइज होते हैं। उन पर रखकर बिजली में बदल दिया जाता है। जिसे सोलर ऊर्जा कहते हैं। फिर इस सोलर ऊर्जा उपयोग सोलर पैनल, सोलर वॉटर हीटर और सोलर कुकर को चलाने के किया जाता है। जैसा की आप सोलर पैनल से आप बिजली उत्पन कर सकते हैं। और गर्म करने के लिए आप सोलर वॉटर हीटर यूज कर करें इसके अलावा आप खाना बनाने के लिए सोलर कोकर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

यह भी देखें:Hydrogen Solar Panels in India: भारत में हाइड्रोजन सोलर पैनल की कीमत क्या है?

Hydrogen Solar Panel: भारत में हाइड्रोजन सोलर पैनल की कीमत क्या है?

सोलर पैनल क्या होता है?

सोलर पैनल के प्रकार का ऐसा डिवाइस सिस्टम होता है। जो सूर्य से लगने वाली धूप के माध्यम से बिजली पैदा करता है। जिसके लिए सोलर सिस्टम को किसी भी तरह के ईंधन, पेट्रोल या डीजल जैसी चीजों की जरुरत नहीं होती है। इन्हे सिर्फ सूर्य से मिलने वाली किरणों की आवश्यकता पड़ती है।

सोलर पैनल धूप को बिजली में कैसे बदलता है उससे जुड़े कुछ FAQ

सोलर पैनल कैसे काम करता है?

सोलर सिस्टम को आपको सूर्य की ऊर्जा वाली दिशा में लगाना होता है फिर जिसे आप कनवर्टर की मदद से पूरे घर में इस्तेमाल कर सकते हैं।

DC, AC की फुल फॉर्म क्या होती है?

AC (अल्टरनेटिंग करंट) और DC (डायरेक्ट करंट)। 

सोलर पैनल में कौन सा करंट होता है?

सोलर पैनल सिस्टम में DC डायरेक्ट करंट होता है।

एक सोलर पैनल कितने वाट का होता है?

सोलर पैनल 12 वोल्ट से लेकर 165 वाट से शुरू हो जाता है। और जो 180 से लेकर 225 वाट तक भी रहते हैं।

यह भी देखें:4kW सोलर सिस्टम लगवाने पर मिलेगी 78000 की भारी सब्सिडी, आज ही लगवाएं मौका है

4kW सोलर सिस्टम लगवाने पर मिलेगी 78000 की भारी सब्सिडी, जानें पूरी जानकारी

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें