सोलर वाटर हीटर 100 लीटर की कीमत

Published By SOLAR DUKAN

Published on

सोलर वाटर हीटर ने पिछले कुछ वर्षों में भारत में महत्वपूर्ण लोकप्रियता हासिल की है। प्रचुर मात्रा में सूर्य के प्रकाश के कारण भारत में सौर ऊर्जा की विशाल क्षमता है, जिससे सोलर वाटर 100 लीटर हीटर घरेलू जल तापन के लिए एक आकर्षक और व्यवहार्य विकल्प है। इस लेख में हम आपको सोलर वाटर हीटर 100 लीटर की कीमतों (Solar Water Heater 100 ltr Price) के विषय में जानकारी प्रदान कर रहे हैं। साथ ही आप सोलर वाटर हीटर के कार्य करने की प्रणाली के बारे में भी जानेंगे। पूरी जानकारी के लिये लेख को अंत तक पढें।

सोलर वाटर हीटर 100 लीटर की कीमत solar water heater 100 ltr price
सोलर वाटर हीटर 100 लीटर की कीमत

सोलर वाटर हीटर क्या है

सोलर वाटर हीटर एक ऐसा उपकरण है जो विभिन्न उद्देश्यों के लिए पानी को गर्म करने के लिए सूर्य की ऊर्जा का उपयोग करता है। यह जीवाश्म ईंधन या बिजली पर निर्भर पारंपरिक रूप से पानी को गर्म करने की विधियों का कम लागत वाला और पर्यावरण के बेहद अनुकूल विकल्प है। सोलर वाटर हीटर आमतौर पर आवासीय, व्यावसायिक और औद्योगिक अनुप्रयोगों के लिए उपयोग में लाये जाते हैं।

सोलर वाटर हीटर 100 लीटर की कीमत

वर्तमान में प्रचलित 100 लीटर सोलर वाटर हीटर की कीमतें 15 हजार रूपये से शुरू होती हैं। ईटीसी सोलर हीटर 100 लीटर सोलर वाटर हीटर की कीमत 15 हजार रूपये से जबकि एफपीसी 100 लीटर सोलर वाटर हीटर की कीमतें 45 हजार रूपयों से शुरू होती हैं।

हालांकि, अलग निर्माता कंपनी और हीटर की गुणवत्ता के आधार पर इन कीमतों में अन्तर होना सम्भव है।

सोलर वाटर हीटर का मॉडलकीमत
ETC सोलर वाटर हीटर 100 लीटर15,000
FPC सोलर वाटर हीटर 100 लीटर45,000

सरकार के द्वारा सौर ऊर्जा के प्रति उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिये सोलर वाटर हीटर 100 लीटर के इंस्टालेशन पर सब्सिडी भी प्रदान की जाती है। आमतौर पर यह सब्सिडी सोलर हीटर की क्षमता के अनुसार कुल लागत का 20 से 60 प्रतिशत तक होती है।

सोलर वाटर हीटर कैसे कार्य करता है

एक सोलर वाटर हीटर नीचे दिये गये चरणों में कार्य करता है-

  • कलेक्टर-
    • सोलर वाटर हीटर सिस्टम में मुख्य तौर पर एक सोलर कलेक्टर लगा होता है जो आमतौर पर छत पर या किसी ऐसे स्थान पर लगाया जाता है जहां पर अधिकतम सूर्य का प्रकाश प्राप्त हो सके।
    • इसे कलेक्टर या संग्राहक भी कहा जाता है। यह सोलर ट्यूब या सोलर पैनलों की एक चेन से बना होता है जो कि सूर्य से आने वाले प्रकाश को अवशोषित करता है।
  • सूर्य के प्रकाश का अवशोषण
    • कलेक्टर के द्वारा को सूर्य के प्रकाश को अवशोषित करके इसे उष्मा में बदल दिया जाता है।
    • सोलर पैनल ऐसी सामग्री से बने होते हैं, जिनकी तापीय चालकता उच्च होती है। इसलिये यह सूर्य की किरणों को आसानी से अवशोषित कर सकते हैं।
  • ट्रांसफर फ्लुइड
    • कलेक्टर के अन्दर एक ट्रांसफर फ्लुइड लगा होता है जो अक्सर ट्यूब या पैनल के माध्यम से फैलता है।
    • जैसे ही फ्लुइड कलेक्टर से होकर गुजरता है, यह सूर्य के प्रकाश से प्राप्त ऊर्जा को अवशोषित करता है और गर्म हो जाता है।
  • उष्मा स्थानांतरण-
    • एक पंप की सहायता से ट्रांसफर फ्लुइड की उष्मा को टैंक की ओर स्थानांतरित किया जाता है।
    • हीट एक्सचेंजर या स्टोरेज टैंक में ट्रांसफर फ्लुइड से पानी गर्म हो जाता है, जिसका उपयोग नहाने धोने या अन्य उद्देश्यों के लिए किया जाता है।
  • गर्म पानी का उपयोग
    • गर्म पानी को एक इंसुलेटेड टैंक में संग्रहित किया जाता है जिससे आवश्यकता पडने पर गर्म पानी तैयार रहता है।
    • इस गर्म पानी को पाइप की मदद से घर के विभिन्न हिस्सों में पंहुचाया जा सकता है।

वाटर हीटर के प्रकार

वर्तमान में भारतीय बाजार में मुख्य रूप से निम्नलिखित सोलर वाटर हीटर प्रचलित हैं-

ईटीसी सोलर वाटर हीटर 100 लीटर

  • ईटीसी सौर वॉटर हीटर समानांतर ग्लास ट्यूबों के एक सेट का उपयोग करता है प्रत्येक में एक धातु अवशोषक ट्यूब होता है।
  • अवशोषक ट्यूब को एक चुनिंदा कोटिंग के साथ लेपित किया जाता है जो सूर्य की उष्मा को प्रभावी ढंग से अवशोषित और बनाए रखने में मदद करता है।
  • संवहन के कारण गर्मी के नुकसान को कम करने के लिए बाहरी ग्लास ट्यूब और आंतरिक अवशोषक ट्यूब के बीच की हवा को खाली कर दिया जाता है।
  • अवशोषित सोलर ऐनर्जी को अवशोषक ट्यूबों के अंदर पानी या गर्मी हस्तांतरण तरल पदार्थ में स्थानांतरित किया जाता है।
  • ईटीसी सोलर वाटर हीटर अपनी दक्षता और ठंडे मौसम में अच्छा प्रदर्शन करने की क्षमता के लिए जाना जाता है।

एफपीसी सोलर वॉटर हीटर 100 लीटर

  • एफपीसी सोलर वॉटर हीटर में कलेक्टर के रूप में एक फ्लैट इंसुलेटेड धातु की प्लेट होती है जो सौर विकिरण को अवशोषित करने के लिए एक चयनात्मक कोटिंग के साथ लेपित होती है।
  • यह फ्लैट प्लेट कलेक्टर आमतौर पर एक इंसुलेटेड बॉक्स में पारदर्शी कवर जैसे कांच या प्लास्टिक के साथ रखा जाता है ताकि सूरज की रोशनी अंदर आ सके।
  • अवशोषक प्लेट में एम्बेडेड पाइप या चैनल में पानी या एक विशेष फ्लुइड होता है जो अवशोषक सोलर प्लेट के संपर्क में आते ही गर्म हो जाता है।
  • मध्यम जलवायु वाले क्षेत्रों में आमतौर पर एफपीसी सिस्टम का अधिक उपयोग किया जाता है। यह भारत में अधिक प्रचलित सोलर वाटर हीटर है।

यह भी देखें :- सोलर वाटर हीटर 200 लीटर की कीमतें जानें।

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें