धनबाद में 138 करोड़ की लागत से लगेगा 25 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट

Published By News Desk

Published on

BCCL (Bharat Coking Coal Limited) के CMD समीरन दत्ता की अध्यक्षता में दिल्ली में हुई 402 वीं बोर्ड मीटिंग में धनबाद के दुगदा में 138 करोड़ रुपये की लागत से 25 मेगावाट के सोलर पावर प्लांट को स्थापित करने की स्वीकृति दी गई है। इस सोलर प्लांट का टेंडर पूर्व में हो चुका है, इस सोलर पावर प्लांट का निर्माण कार्य ओरियन इंडस्ट्रीज़ नाम की आउटसोर्सिंग कंपनी करेगी। इस सोलर प्रोजेक्ट को 5 सालों में पूरा किया जाएगा।

धनबाद में 138 करोड़ की लागत से लगेगा 25 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट
धनबाद में 138 करोड़ की लागत से लगेगा 25 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट

धनबाद में 138 करोड़ की लागत से लगेगा 25 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट

BCCL द्वारा अब तक सौर ऊर्जा में वृद्धि करने के लिए सोलर पैनल से संबंधित अनेक योजनाओं को स्थापित किया जा चुका है। इसके द्वारा कंपनी मुख्यालय कोयला भवन, वाशरी डिवीजन कार्यालय, सेंट्रल अस्पताल आदि में इन प्रोजेक्ट को स्थापित किया जा चुका है। BCCL द्वारा भोजूडीह में 163 करोड़ की लागत से 25 मेगावाट का सोलर प्लांट स्थापित करने का प्रस्ताव पहले से है। BCCL बोर्ड द्वारा वित्तीय वर्ष 2023-24 में रेवेन्यू बजट में इन प्रोजेक्ट को स्वीकृति दी गई है।

BCCL द्वारा 42 मिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य इस वित्तीय वर्ष में निर्धारित किया गया है। स्लिपओवर कैपिटल बजट के लिए 97% पास किया गया है। दिल्ली में हुई 402 वीं बोर्ड मीटिंग BCCL के CMD के अतिरिक्त कोल इंडिया के प्रोजेक्ट एडवाइजर आनंद जी प्रसाद, DT (OP), DT (PP) आदि के अलल सभी स्वतंत्र निदेशक एवं अधिकारी मौजूद थे।

यह भी देखें:ये Solar Stocks आने वाले समय में बड़े Returns दे सकते हैं, अभी करें इन्वेस्ट

ये Solar Stocks आने वाले समय में बड़े Returns दे सकते हैं, अभी करें इन्वेस्ट

BCCL बोर्ड द्वारा झरिया मास्टर प्लान के तहत एक हेड से दूसरे हेड में राशि खर्च करने से संबंधित प्रस्ताव को भी मंजूरी प्रदान की है। इसमें जिस मद में राशि समाप्त हो गई, उस में शेष कार्य को करने के लिए दूसरे हेड से राशि खर्च की जाएगी, BCCL द्वारा यह प्रस्ताव अब कोल इंडिया को भेजा जाएगा, वहाँ से स्वीकृति मिलने के बाद यह कार्य किया जा सकता है। झरिया का मास्टर प्लान कार्य का समय अब खत्म हो चुका है, रिवाइज मास्टर प्लान की स्वीकृति नहीं मिली है। JEDA के अंतर्गत चल रहे आवास निर्माण कार्य पैसे की कमी के कारण नहीं हो रहे हैं, जबकि इनके फंड में 327 रुपये हैं।

यह भी देखें:78 हजार रुपये का सीधा फायदा

खुशखबरी! इस सरकारी योजना में होगा 78 हजार रूपए का सीधा फायदा

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें