ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान इसे लगवाने का खर्च

Published By SOLAR DUKAN

Published on

सौर ऊर्जा से विद्युत ऊर्जा का उत्पादन करने के लिए सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है। सोलर पैनल से प्राप्त होने वाली बिजली के माध्यम से नागरिकों को बिजली के भारी बिल से राहत प्राप्त होती है। साथ ही सोलर पैनल से बिजली पर्यावरण के अनुकूल बनती है। इस से प्रदूषण नहीं होता है। सोलर पैनल को तीन प्रकार से स्थापित किया जाता है, जिन्हें ऑन ग्रिड, ऑफ ग्रिड एवं हायब्रिड कहते हैं।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (ON Grid Solar System) की जानकारी इस लेख में दी जाएगी। ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान दोनों की तुलना की जाएगी। एवं इस सोलर सिस्टम को लगवाने में होने वाले खर्च की जानकारी साँझा की जाएगी।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान इसे लगवाने का खर्च कितना है
ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम लगवाने का खर्च?

ON Grid Solar System के द्वारा भी सोलर पैनल स्थापित किये जाते हैं, इसमें सोलर पैनल के बाद सबसे महत्वपूर्ण उपकरण सोलर बैटरी होती है। ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम की जानकारी का लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम

ON Grid Solar System को ग्रिड टाई सोलर सिस्टम भी कहते हैं यह एक पूर्ण सोलर सेटअप होता है। इसके द्वारा उपभोक्ता बिजली को प्राप्त करता है एवं यूटिलिटी के पावर ग्रिड के साथ बिजली को सांझा करता है, जिस से उसे ग्रिड की बिजली का केवल शुद्ध बिल ही जमा करना होता है। ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान से पूर्व उसकी कार्य विधि देखें।

सोलर सिस्टम में उपकरण एवं कार्य विधि

इस सोलर सिस्टम में सबसे महत्वपूर्ण सोलर पैनल होते हैं। सोलर पैनल में फोटोवोल्विक पीवी सेल होते हैं, जिनके द्वारा सौर ऊर्जा को को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित किया जाता है। सोलर पैनलों द्वारा विद्युत ऊर्जा को दिष्ट धारा के रूप में इन्वर्टर/चार्ज कंट्रोलर को भेजी जाती है।

इन्वर्टर दिष्ट धारा DC को प्रत्यावर्ती धारा AC में परिवर्तित करती है। उसके बाद इन्वर्टर से बिजली को घर के लोड चलाने एवं पावर ग्रिड के साथ आयात-निर्यात किया जाता है। इन्वर्टर एवं पॉवर ग्रिड के मध्य नेट मीटर का प्रयोग किया जाता है। जिस से बिजली के आयात-निर्यात की गणना की जाती है, एवं शुद्ध बिजली का बिल ही उपभोक्ता को प्रदान किया जाता है। ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम का डायग्राम (ON Grid Solar System Diagram) इस प्रकार है।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम क्या है?

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान

ON Grid Solar System से होने वाले फायदे इस प्रकार हैं:

  • ON Grid सोलर सिस्टम को स्थापित करने में होने वाला खर्च अन्य ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम एवं हाइब्रिड सोलर सिस्टम की तुलना में बहुत कम होता है।
  • इस ग्रिड सोलर सिस्टम में पावर ग्रिड के साथ बिजली को साँझा किया जाता है। ऐसा करने से बिजली के बिल से उपभोक्ता को लगभग 90% से अधिक की छूट प्रदान की जाती है।
  • इस सोलर सिस्टम को स्थापित करने में सोलर बैटरी का प्रयोग नहीं किया जाता है। जिस कारण यह सस्ता भी है, यदि इस सोलर सिस्टम में ही बैटरी जोड़ दी जाए तो वह हाइब्रिड सोलर सिस्टम हो जाता है।
  • इस सोलर सिस्टम को मेंटिनेंस की आवश्यकता नहीं पड़ती है।
  • इस सोलर सिस्टम को स्थापित करने पर भारत सरकार द्वारा 20% से 40% सब्सिडी प्रदान की जाती है।

ON Grid Solar System को स्थापित करने से होने वाले नुकसान इस प्रकार हैं:

  • इस सोलर सिस्टम का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसमें उपभोक्ता बिजली का प्रयोग तब ही कर सकता है जब ग्रिड में बिजली होती है बिजली के जाने पर यह कार्य नहीं करता है।
  • इस सोलर सिस्टम में बैटरी ना होने के कारण बिजली का कोई बैकअप नहीं रहता है।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम स्थापित करने का खर्च

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान जानने के बाद इस ग्रिड सोलर सिस्टम को स्थापित करने की अनुमानित लागत (ON Grid Solar System Price in India) इस प्रकार है यह समय और जगह के अनुसार कम या ज्यादा हो सकती है:

ON Grid Solar System की क्षमता कीमत (रूपये में)
1 किलोवाट
2 किलोवाट70,000-1,00,000
3 किलोवाट1,20,000-1,60,000
5 किलोवाट2,20,000-2,60,000
10 किलोवाट4,00,000-5,00,000

सब्सिडी

भारत में ON Grid Solar System स्थापित करने पर सब्सिडी भी प्रदान की जाती है। ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान देखे अब यह सब्सिडी इस प्रकार निर्धारित है:

  • यदि उपभोक्ता 3 किलोवाट क्षमता तक के सोलर पैनल को ON Grid Solar System में स्थापित करता है, तो उसे सरकार द्वारा 40% सब्सिडी प्रदान की जाती है।
  • यदि उपभोक्ता 10 किलोवाट क्षमता तक के सोलर पैनल को ON Grid सोलर सिस्टम में स्थापित करता है, तो उसे सरकार द्वारा 20% सब्सिडी प्रदान की जाती है।

यदि आप अपने घर पर सोलर पैनल को ON Grid Solar System के रूप में स्थापित कर सब्सिडी प्राप्त करना चाहते हैं। तो ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम पर सब्सिडी लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम से सम्बंधित प्रश्न एवं उत्तर

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम क्या है?

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम यह एक पूर्ण सोलर सेटअप होता है जिसे ग्रिड टाई सोलर सिस्टम के नाम से भी जाना जाता है। इसमें सोलर पैनल से बनाई जाने वाली बिजली को पावर ग्रिड के साथ सांझा किया जाता है।

ON Grid Solar System के नुकसान क्या है?

ON Grid Solar System का मुख्य नुकसान यह है कि इसमें यदि पावर ग्रिड की बिजली चली जाये तो यह किसी काम का नहीं रहता है। क्योंकि इसमें बैटरी नहीं लगी होती है एवं यह ग्रिड से आयात-निर्यात कर बिजली का प्रयोग करता है।

ON Grid Solar System में किन-किन उपकरणों का प्रयोग किया जाता है?

ON Grid Solar System में सोलर पैनल, सोलर चार्ज कंट्रोलर/इन्वर्टर, नेट मीटर, वायर, पॉवर ग्रिड का प्रयोग किया जाता है।

ग्रिड टाई सोलर सिस्टम को स्थापित करने में भारत में कितनी सब्सिडी प्रदान की जाती है?

ग्रिड टाई सोलर सिस्टम को स्थापित करने में भारत में यदि 3 किलोवाट क्षमता तक का सोलर सिस्टम हो तो 40% एवं 10 किलोवाट क्षमता का सोलर सिस्टम हो तो 20% सब्सिडी प्रदान की जाती है।

ON Grid Solar System का प्रयोग कहां किया जा सकता है?

ON Grid Solar System का प्रयोग इसे स्थानों में किया जा सकता है, जहां बिजली की कटौती शून्य के बराबर होती है।

निष्कर्ष

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे और नुकसान में उसकी यह कमी कि वह सिर्फ ग्रिड की बिजली के साथ ही सक्षम रहता है। ऐसे में उपभोक्ता इसका कम प्रयोग करते हैं। उच्च क्षमता के सोलर सिस्टम को ऑन ग्रिड किया जा सकता है, लेकिन कम क्षमता के सोलर सिस्टम को ऑफ ग्रिड ही प्रयोग करना चाहिए।

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें