बिजली बिल की करें छुट्टी, ये सोलर AC लगवाएं बिल्कुल सस्ते में

सोलर AC के प्रयोग से बिजली के बिल को कम किया जाता है। यह पर्यावरण को भी लाभ प्रदान करता है।

Published By News Desk

Published on

सोलर AC: गर्मी में धूम मचा रहा है सोलर से चलने वाला यह शानदार एसी, कीमत जानें
सोलर AC

गर्मी के मौसम में बिजली का प्रयोग बढ़ जाता है, जिस के साथ ही बिजली का बिल भी बहुत तेजी से बढ़ता है। ऐसे में सोलर उपकरणों का प्रयोग कर के बिजली के बिल को कम किया जा सकता है। सोलर सिस्टम को एक बार स्थापित करने के बाद लंबे समय तक फ्री बिजली का लाभ प्राप्त किया जा सकता है। यदि गर्मी से राहत प्राप्त करने के लिए आप सोलर AC (Solar AC) का प्रयोग करना चाहते हैं। तो इस लेख के माध्यम से हम आपको सोलर एसी की पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

सोलर AC क्या होता है?

एक ऐसा एयर कंडीशनर (AC) जो सौर ऊर्जा के माध्यम से संचालित किया जाता है। इसे हाइब्रिड सोलर AC एवं सोलर पावर्ड AC भी कहा जाता है। ऐसा AC सामान्य AC के समान ही कार्य करता है। सामान्य एसी को इलेक्ट्रिक ग्रिड के माध्यम से ही चलाया जा सकता है। लेकिन सोलर एसी को तीन प्रकार से संचालित किया जा सकता है। इसे सोलर पावर, सोलर बैटरी एवं इलेक्ट्रिक ग्रिड के माध्यम से संचालित किया जा सकता है।

सोलर एसी का प्रयोग करने से अन्य सोलर उपकरणों के समान लाभ होते हैं, इसके प्रयोग से बिजली के भारी बिल से राहत प्राप्त की जा सकती है। सोलर एसी का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इनके प्रयोग से पर्यावरण को स्वच्छ एवं सुरक्षित रखा जा सकता है। पर्यावरण में उपस्थित कार्बन की मात्रा को कम किया जा सकता है। सोलर एसी की लोकप्रियता आज के समय में तेजी से बढ़ रही है। इसके प्रयोग से उपयोगकर्ताओं को अनेक लाभ प्राप्त होते हैं।

सोलर एसी कैसे काम करता है?

सोलर एसी को इस प्रकार डिजाइन किया गया है कि यह आसानी से कार्य करता है। सोलर एसी की कार्यविधि इस प्रकार रहती है:-

  • सोलर पैनल द्वारा सूर्य प्राप्त होने वाली सौर ऊर्जा को बिजली के DC (दिष्ट धारा) रूप में परिवर्तित किया जाता है। इसी बिजली का प्रयोग कर सोलर एसी को संचालित किया जाता है।
  • सोलर पैनल से बनने वाली बिजली को सोलर बैटरी में जमा किया जाता है। बैटरी को सोलर एसी से कनेक्ट किया जाता है। जिससे सोलर एसी को चलाया जाता है।
  • बिजली के DC को रूप में AC में परिवर्तित करने के लिए सिस्टम में सोलर इंवर्टर का प्रयोग किया जाता है।

सोलर पैनल की स्थापना को सोलर एसी की क्षमता के अनुसार किया जाता है। जिस से सही यूनिट बिजली का प्रयोग कर सोलर एसी को संचालित किया जाता है। हाइब्रिड सोलर एसी को बिजली से भी चलाया जा सकता है। जब बिजली न हो, तो सोलर बैटरी में संग्रहीत बिजली का प्रयोग किया जा सकता है। तेज धूप वाले दिनों में सोलर एसी 95% बिजली सोलर सिस्टम से प्राप्त करता है। खराब मौसम वाले दिनों में यह 75% बिजली सोलर सिस्टम से प्राप्त कर सकता है। रात के समय एसी को इलेक्ट्रिक ग्रिड या बैटरी की सहायता से संचालित किया जा सकता है।

सोलर AC की कीमत

एसी की क्षमता Ton में होती है। अपनी आवश्यकता के अनुसार आप सोलर एसी की क्षमता का चयन कर सकते हैं। सोलर एसी को स्थापित करने वाले स्थान के आधार पर भी सोलर एसी का चयन किया जा सकता है। सोलर एसी की कीमत उसकी क्षमता, रेटिंग, प्रकार एवं ब्रांड पर निर्भर करती है। हाइब्रिड सोलर एसी की कीमत अधिक होती है, हम आपको कम कीमत वाले सोलर एसी की जानकारी प्रदान करेंगे, सोलर एसी की कीमत इस प्रकार रहती है:-

यह भी देखें:चाहे जितनी बिजली फूको अब नहीं आएगा बिजली बिल, बस ये लगवाना है

चाहे जितनी बिजली फूको अब नहीं आएगा बिजली बिल, बस ये लगवाना है

  • NEX Suncool 1X Ai Split AC(Wi-fi)– Nexus Solar Energy द्वारा यह सोलर एसी बनाया गया है। यह एक स्प्लीट एसी है। नेक्सस का यह सोलर एसी घरों के लिए लागत प्रभावी है। यह एल्फा सीरीज का सोलर एसी है। इसकी एनर्जी स्तर रेटिंग 5 स्टार है। इस सोलर एसी को संचालित करने के लिए पूर्ण रूप से 855 वाट बिजली की अधिकतम आवश्यकता होती है, जबकि न्यूनतम बिजली की खपत 200 वाट है।

इस सोलर एसी में अनेक सुविधाएं उपयोगकर्ता को प्रदान की जाती है। इस सोलर एसी में अनेक आधुनिक फीचर्स प्रदान किए जाते हैं। यह एसी 100 स्क्वायर फीट से 150 स्क्वायर फीट के कमरे को ठंडा कर सकता है। नेक्सस की आधिकारिक वेबसाइट पर इस सोलर एसी की कीमत 35,718 रुपये है।

  • 2 Ton के सोलर एसी की कीमत– बड़े स्थान में 2 Ton के AC को स्थापित किया जा सकता है। नेक्सस द्वारा बनाए गए NEX Suncool 2X Ai Split AC(Wi-fi) की कीमत आधिकारिक वेबसाइट पर 41,812 रुपये है। इस एसी में अनेक फीचर्स उपयोगकर्ता को प्रदान किए गए हैं। नेक्सस के सोलर एसी में वाईफ़ाई का फीचर भी प्रदान किया गया है। इसे अपने स्मार्ट फोन से भी नियंत्रित कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त अनेक सोलर एसी निर्माता ब्रांड बाजार में उपलब्ध हैं। नेक्सस के सोलर एसी की कीमत सबसे कम है। इसे अपने नजदीकी बाजार या ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म से खरीद सकते हैं।

सोलर AC को चलाने में सोलर पैनल

सोलर एसी को सोलर पैनल से चलाने में लगने वाले सोलर पैनल की संख्या सोलर एसी की क्षमता पर निर्भर करती है। सामान्यतः 1 Ton के सोलर एसी को चलाने के लिए न्यूनतम 1.5 किलोवाट के सोलर पैनल को स्थापित कर सकते हैं। इस सोलर पैनल की क्षमता में सोलर एसी के अतिरिक्त अन्य उपकरणों को भी संचालित किया जा सकता है। 1.5 किलोवाट के सोलर पैनल द्वारा प्रतिदिन उचित धूप प्राप्त होने पर 8 यूनिट तक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है।

अपने पुराने एसी को सोलर एसी में बदलें

यदि आपके पास पहले से ही एसी है तो आपको ऐसे में नया सोलर एसी खरीदने की आवश्यकता नहीं है, आप उसे सोलर एसी में बदल सकते हैं। सामान्यतः एयर कंडीशनर AC पर संचालित किए जाते हैं। ऐसे में आप एक कुशल क्षमता का सोलर सिस्टम स्थापित कर सकते हैं। जिस से पर्याप्त मात्रा में बिजली को प्राप्त किया जा सकता है। सोलर सिस्टम में लगे सोलर पैनल से डीसी में बिजली का उत्पादन किया जाता है। जिसे इंवर्टर की सहायता से AC में बदला जा सकता है। एवं इसी धारा से अपने सोलर एयर कंडीशनर को चला सकते हैं।

सोलर AC का प्रयोग कर के बिजली के बिल से राहत प्राप्त की जा सकती है। किसी भी सोलर उपकरण पर किए गए निवेश को बुद्धिमानी का निवेश कहा जाता है, क्योंकि इनके प्रयोग से लंबे समय तक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। साथ ही सोलर उपकरणों के प्रयोग से हरित भविष्य की ओर बढ़ा जा सकता है, क्योंकि इनके प्रयोग से जीवाश्म ईंधन की निर्भरता को खत्म किया जा सकता है, जिस से प्रदूषण को मात्रा को कम किया जा सकता है। सरकार भी नागरिकों को सोलर उपकरणों के प्रयोग के लिए प्रेरित करती है। जिस से वे आर्थिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी देखें:फ्लैट प्लेट कलेक्टर (FPC) की पूरी जानकारी

फ्लैट प्लेट कलेक्टर (FPC) की पूरी जानकारी

4 thoughts on “बिजली बिल की करें छुट्टी, ये सोलर AC लगवाएं बिल्कुल सस्ते में”

  1. Solar A/Cis good option Energy saving Polution friendly.intrestef to install solar a/c kindly let me know how I can install.

    Reply
    • हाँ, भारत में सोलर एयर कंडीशनर लगाना एक बढ़िया विकल्प है!

      आपकी रुचि देखकर बहुत अच्छा लगा, बढ़ती गर्मी और बिजली की खपत को कम करने के लिए, सौर ऊर्जा से चलने वाला एयर कंडीशनर (Solar AC) निश्चित रूप से एक अच्छा विकल्प है. यह ना सिर्फ पर्यावरण के अनुकूल है बल्कि लंबे समय में आपको पैसे भी बचाता है.

      सोलर एयर कंडीशनर लगाने की प्रक्रिया क्या रहेगी देखें:

      भारत में सोलर एयर कंडीशनर लगवाने के लिए आप ये निम्न चरण अपना सकते हैं:

      1. अपनी छत का मूल्यांकन कराएं : सबसे पहले, यह देखें कि आपकी छत पर कितने सोलर पैनल लगाए जा सकते हैं. इसके लिए आप किसी सौर ऊर्जा कंपनी या सोलर प्रोडक्ट्स बेचने वाले विक्रेता से संपर्क कर सकते हैं. वे आपकी छत का निरीक्षण करके बताएंगे कि कितने पैनल लग पाएंगे और इससे आपकी कितनी बिजली की खपत पूरी हो सकेगी.
      2. सरकारी सब्सिडी योजनाओं की जानकारी लें : भारत सरकार कई राज्यों में सोलर पैनल लगाने पर सब्सिडी देती है. आप अपने राज्य के नवीकरणीय ऊर्जा विभाग की वेबसाइट पर जाकर सब्सिडी योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.
      3. विभिन्न कंपनियों से कोटेशन प्राप्त करें : जानकारी लेने के बाद, जानी-मानी सौर ऊर्जा कंपनियों से उनके सोलर एयर कंडीशनर पैकेजों के बारे में कोटेशन प्राप्त करें. कोटेशन में पैनलों की संख्या, इन्वर्टर की क्षमता, AC की क्षमता, बैटरी शामिल है या नहीं (कुछ सोलर AC रात के लिए बैटरी बैकअप के साथ आते हैं), वारंटी और इंस्टॉलेशन शुल्क जैसी जानकारी होनी चाहिए.
      4. कंपनी का चयन करें : कोटेशन प्राप्त करने के बाद, कंपनियों की पेशकशों की तुलना करें. सर्वोत्तम मूल्य और सेवा देने वाली कंपनी का चयन करें. यह भी ध्यान दें कि कंपनी अनुभवी हो और अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान करे. साथ ही यह भी ध्यान में रखें की कंपनी सरकारी सब्सिडी वाले सोलर सिस्टम इन्स्टॉल करती हो, ताकि आपकी स्थापना लागत कम आए।
      5. स्थापना (Sthapana): एक बार जब आप कंपनी चुन लेते हैं, तो वे आपके घर पर सोलर पैनल, इन्वर्टर और AC का इंस्टॉलेशन कर देंगे।

      • भारत में अभी भी सोलर AC की शुरुआती लागत थोड़ी अधिक हो सकती है, लेकिन लंबे समय में बिजली की बचत से यह लागत वसूल हो जाती है.
      • सोलर AC की क्षमता का चुनाव आपके कमरे के आकार और आपकी जरूरतों के अनुसार करना चाहिए.
      • कुछ सोलर AC हाइब्रिड होते हैं, जो सोलर पावर के साथ-साथ ग्रिड से भी बिजली ले सकते हैं. बैटरी बैकअप भी महत्वपूर्ण है, खासकर शाम के समय जब सूर्य की रोशनी कम होती है.

      Reply

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें