पतंजलि सोलर पैनल लगाएं, सरकार देगी 2 लाख की सब्सिडी

पतंजलि 7 किलोवाट सोलर सिस्टम पर सब्सिडी प्राप्त कर के आप बिजली बिलों के साथ ही लागत को भी कम कर सकते हैं

Published By SOLAR DUKAN

Published on

यदि आप एक उच्च क्षमता का सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं तो आप पतंजलि 7 Kw सोलर सिस्टम (Patanjali 7 Kw Solar System) को स्थापित कर सकते हैं। पतंजलि सोलर पैनल के माध्यम से प्रतिदिन 30 यूनिट से 35 यूनिट तक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है। पतंजलि भारत में एक प्रसिद्ध कंपनी है, जो घरेलू उत्पादों के साथ ही सोलर उपकरणों का निर्माण एवं विक्रय भी करती है। इसके सोलर उपकरणों का प्रयोग कर आप एक कुशल सोलर सिस्टम विकसित कर सकते हैं।

एक पूरे सोलर सिस्टम में मुख्य उपकरण के रूप में सोलर पैनल, सोलर इंवर्टर एवं सोलर बैटरी का प्रयोग किया जाता है। पतंजलि सभी प्रकार के सोलर उत्पादों की सीरीज पेश करता है। सोलर सिस्टम के प्रयोग से जीवाश्म ईंधन की निर्भरता को खत्म किया जा सकता है, सोलर सिस्टम पर्यावरण को बिना नुकसान पहुंचाए बिजली का उत्पादन करते हैं इनके प्रयोग से कार्बन फुटप्रिन्ट को कम कर हरित भविष्य की कल्पना को साकार किया जा सकता है।

पतंजलि 7 Kw सोलर सिस्टम को लगाएं। खर्चा देखें
पतंजलि 7 किलोवाट सोलर सिस्टम

पतंजलि 7 Kw सोलर सिस्टम में सोलर पैनल

यदि आप जिस स्थान पर सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं वहाँ प्रतिदिन बिजली का लोड 30 यूनिट से 35 यूनिट तक रहता है, तो आप पतंजलि 7 किलोवाट सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं, 7 किलोवाट के सोलर पैनल प्रतिदिन 30 से 35 यूनिट तक बिजली का निर्माण कर सकते हैं। पतंजलि सोलर द्वारा पॉलीक्रिस्टलाइन एवं मोनोक्रिस्टलाइन PERC प्रकार के सोलर पैनल का निर्माण किया जाता है, नागरिक अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी प्रकार के सोलर पैनल का प्रयोग कर सकते हैं। निर्माता ब्रांड पतंजलि द्वारा 25 साल की विद्युत निर्माण वारंटी उपभोक्ता को पैनल पर प्रदान की जाती है। पतंजलि सोलर पैनल की कीमत जानें

पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की दक्षता कम होती है, इनकी कीमत भी कम होती है, इसलिए इस प्रकार के सोलर पैनल का प्रयोग सबसे अधिक किया जाता है। ये अधिक स्थान में स्थापित किए जाते हैं। पतंजलि के 7 किलोवाट क्षमता के पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल की कीमत लगभग 2,10,000 रुपये तक हो सकती है। पतंजलि द्वारा बनाए गए अलग-अलग क्षमता के सोलर पैनल की कीमत निम्न सारणी में है:-

पतंजलि सोलर पैनल (मॉडल)विक्रय मूल्यकीमत प्रति वाट
50 वाट2,250 रुपये45 रुपये
75 वाट3,375 रुपये45 रुपये
100 वाट4,000 रुपये40 रुपये
150 वाट6,000 रुपये40 रुपये
200 वाट7,000 रुपये35 रुपये
250 वाट8,750 रुपये35 रुपये
300 वाट9,600 रुपये32 रुपये
350 वाट11,200 रुपये32 रुपये
400 वाट12,400 रुपये31 रुपये
450 वाट13,950 रुपये31 रुपये

मोनोक्रिस्टलाइन PERC सोलर पैनल उच्च दक्षता के सोलर पैनल हैं, ये सोलर पैनल कम धूप होने पर भी बिजली का उत्पादन करने में सक्षम है। इस प्रकार के सोलर पैनल कम जगह में लगाए जा सकते हैं। पतंजलि के 7 किलोवाट क्षमता के मोनो PERC सोलर पैनल की कीमत लगभग 2,40,000 रुपये तक होती है। पतंजलि द्वारा अलग-अलग क्षमता के सोलर पैनल बनाए जाते हैं जिनकी कीमत इस प्रकार है:-

पतंजलि सोलर पैनल (मॉडल)विक्रय मूल्यकीमत प्रति वाट
350 वाट13,300 रुपये38 रुपये
355 वाट13,490 रुपये38 रुपये
360 वाट13,320 रुपये37 रुपये
365 वाट13,505 रुपये37 रुपये
370 वाट13,690 रुपये37 रुपये
375 वाट13,875 रुपये37 रुपये
380 वाट14,060 रुपये37 रुपये

पतंजलि 7 Kw सोलर सिस्टम में कुल खर्चा

यदि उपभोक्ता 7 किलोवाट पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल का प्रयोग करे तो कुल खर्चा:-

पतंजलि सोलर उपकरण एवं अन्यकीमत
7 किलोवाट पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल2,10,000 रुपये
Patanjali 7.5kva/96v सोलर इंवर्टर60,000 रुपये
8 x 150 Ah सोलर बैटरी1,20,000 रुपये
अन्य खर्च50,000 रुपये
कुल खर्चा4,40,000 रुपये

यदि उपभोक्ता 7 किलोवाट मोनो पर्क सोलर पैनल का प्रयोग करे तो कुल खर्चा:-

पतंजलि सोलर उपकरण एवं अन्यकीमत
7 किलोवाट मोनो पर्क सोलर पैनल2,40,000 रुपये
Patanjali 7.5kva/96v सोलर इंवर्टर60,000 रुपये
8 x 200 Ah सोलर बैटरी1,60,000 रुपये
अन्य खर्च50,000 रुपये
कुल खर्चा5,10,000 रुपये

नोट: शिपिंग एवं इंस्टॉलेशन का खर्च अतिरिक्त होता है।

7 किलोवाट के सोलर सिस्टम में पतंजलि के सोलर इंवर्टर

बड़े सोलर सिस्टम में सोलर इंवर्टर का उचित रेटिंग का होना आवश्यक होता है। सोलर इंवर्टर सोलर सिस्टम में पैनल एवं बैटरी से प्राप्त होने वाली दिष्ट धारा DC को प्रत्यावर्ती धारा AC में परिवर्तित करने का कार्य करते हैं। पतंजलि द्वारा PWM (Pulse Width Modulation) एवं MPPT (Maximum Power Point Tracking) प्रकार की तकनीक के सोलर इंवर्टर बनाए जाते हैं। जिनका प्रयोग उपभोक्ता अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं। सोलर सिस्टम में पतंजलि सोलर इंवर्टर

Patanjali 7.5kva/96v सोलर इंवर्टर यह PWM तकनीक का एक उच्च दक्षता के सोलर इंवर्टर है, जिसका प्रयोग आप 7 किलोवाट के सोलर सिस्टम में कर सकते हैं, इस सोलर इंवर्टर पर अधिकतम 8000 वाट के सोलर पैनल लगाए जा सकते हैं। यह 7.5 KVA के लोड को संचालित कर सकता है। इस सोलर इंवर्टर की नॉमिनल बैटरी वोल्टेज रेटिंग 96 वोल्ट है। इस पर 8 सोलर बैटरियों को जोड़ा जा सकता है। इस इंवर्टर का आउटपुट Pure Sine Wave होता है। इस सोलर इंवर्टर की कीमत लगभग 60,000 रुपये तक है। इस इंवर्टर पर 2 साल की वारंटी प्रदान की जाती है।

यह भी देखें:UTL 2 किलोवाट सोलर सिस्टम लगाने में होने वाला खर्चा जानें

UTL 2 किलोवाट सोलर सिस्टम लगाने में होने वाला खर्चा जानें

7 किलोवाट के सोलर सिस्टम में सोलर बैटरी

पावर बैकअप की आवश्यकता के अनुसार उपभोक्ता अपने सोलर सिस्टम में सोलर बैटरी का प्रयोग कर सकते हैं। पतंजलि मुख्य रूप से लेड एसिड बैटरी का निर्माण किया जाता है। सोलर बैटरी का प्रयोग ऑफग्रिड सोलर सिस्टम में किया जा सकता है। पतंजलि द्वारा अपनी सोलर बैटरियों पर 5 साल की वारंटी दी जाती है। 7 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम में लगे सोलर इंवर्टर की बैटरी वोल्टेज रेटिंग के अनुसार सोलर बैटरियों का प्रयोग किया जाता है। सोलर बैटरियों की कीमत इस प्रकार है:-

  • पतंजलि द्वारा निर्मित 150 Ah/12 वोल्ट की सोलर बैटरी की कीमत लगभग 15,000 रुपये है।
  • पतंजलि द्वारा निर्मित 200 Ah/12V की सोलर बैटरी की कीमत लगभग 18,000 रुपये है।

सोलर सिस्टम में होने वाला अतिरिक्त खर्च

किसी भी सोलर सिस्टम को स्थापित करने में मुख्य उपकरणों के अतिरिक्त अन्य छोटे और महत्वपूर्ण उपकरणों का प्रयोग भी किया जाता है। जैसे सोलर सिस्टम में कनेक्शन जोड़ने के लिए अलग-अलग प्रकार के तारों का प्रयोग किया जाता है, सोलर पैनल को सुरक्षित रखने के लिए पैनल स्टैन्ड का प्रयोग किया जाता है।

7 किलोवाट क्षमता के सोलर सिस्टम को स्थापित करने में कुल अतिरिक्त खर्च लगभग 50,000 रुपये तक हो सकता है। इसमें सोलर सिस्टम को स्थापित करने वाले एक्सपर्ट कर्मचारियों का भुगतान शुल्क भी जोड़ा गया है।

7 किलोवाट के सोलर सिस्टम पर सब्सिडी प्राप्त करें

यदि आप ऑनग्रिड सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं तो आप सरकार द्वारा प्राप्त होने वाले सोलर सब्सिडी के लिए आवेदन कर सकते हैं, इस प्रकार के सोलर सिस्टम में सोलर बैटरी का प्रयोग नहीं किया जाता है, पैनल से बनने वाली बिजली को ग्रिड के साथ साझा किया जाता है। यह योजना भारत सरकार के MNRE (नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय) द्वारा संचालित की जाती है।

जिसका आवेदन आप सोलर रुफटॉप योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर कर सकते हैं। 7 किलोवाट के सोलर सिस्टम में शुरू के 3 किलोवाट पर 40% सब्सिडी एवं उसके बाद के 4 किलोवाट सोलर सिस्टम पर 20% सब्सिडी प्रदान की जाती है। इस प्रकार सोलर सब्सिडी प्राप्त कर आप 7 किलोवाट के ऑनग्रिड सिस्टम को 3 से 4 लाख रुपये में स्थापित कर सकते हैं।

पतंजलि 7 Kw सोलर सिस्टम से संबंधित प्रश्न एवं उत्तर

7 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल से प्रतिदिन कितनी बिजली बनाई जा सकती है?

7 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल से प्रतिदिन 30 से 35 यूनिट तक बिजली बनाई जाती है। इसके लिए मौसम जैसे कारक का अनुकूल होना जरूरी होता है।

पतंजलि 7 किलोवाट सोलर सिस्टम को सब्सिडी एवं बिना सब्सिडी के लिए रुपये में लगाया जा सकता है?

पतंजलि के 7 किलोवाट के सोलर सिस्टम को सब्सिडी के साथ में 3 से 4 लाख रुपये में लगाया जा सकता है। एवं बिना सब्सिडी के यह सोलर सिस्टम 4.40 लाख से 5.10 लाख रुपये में लग सकता है।

सोलर सिस्टम के प्रयोग के क्या लाभ हैं?

सोलर सिस्टम के प्रयोग से उपभोक्ता को इलेक्ट्रिक ग्रिड बिजली के बिल में छूट प्राप्त होती है, वह लंबे समय तक फ्री बिजली का उत्पादन कर सकता है, साथ ही साथ वह पर्यावरण के अनुकूल बिजली का उत्पादन कर पर्यावरण को सुरक्षित रख सकता है।

इस प्रकार उपरोक्त आर्टिकल के माध्यम से आप पतंजलि 7 Kw सोलर सिस्टम को स्थापित करने में प्रयोग किए जाने वाले उपकरणों एवं कुल खर्चे की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। सोलर सिस्टम की स्थापना कर उपभोक्ता 20 से 25 सालों तक फ्री बिजली का उत्पादन कर पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने में अपना सहयोग प्रदान करता है। सोलर ऊर्जा से आर्थिक बचत के रूप में बिल को कम किया जा सकता है।

यह भी देखें:लगाइए सोलर और आटा चक्की का बिजली बिल होगा Zero! अभी जानें कैसे

लगाएं सोलर पैनल और आटा चक्की का बिजली बिल होगा Zero, अभी जानें

1 thought on “पतंजलि सोलर पैनल लगाएं, सरकार देगी 2 लाख की सब्सिडी”

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें