मोढेरा: भारत का पहला पूर्ण सौर ऊर्जा संचालित गाँव

Published By News Desk

Published on

तेजी के साथ दुनियाँ नवीकरणीय ऊर्जा का प्रयोग कर रही है। नवीकरणीय ऊर्जा का प्रयोग इसलिए भी आवश्यक है क्योंकि इस के माध्यम से पर्यावरण को सुरक्षित किया जा सकता है। गुजरात के मोढेरा गांव को भारत के पहले सौर ऊर्जा पूर्ण संचालित गाँव के रूप में जाना जाता है। यह गाँव फे से ही सूर्य मंदीर के लिए प्रसिद्ध है। अब सौर ऊर्जा के द्वारा ही इस पूरे गाँव में बिजली संचालित होती है। इस गाँव में 1,300 से ज्यादा घरों में सोलर पैनल एवं जमीन में सोलर पावर पॉइंट लगे हुए हैं। अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में मोढेरा गांव ने एक मिसाल कायम की है।

मोढेरा: भारत का पहला पूर्ण सौर ऊर्जा संचालित गाँव
मोढेरा: भारत का पहला पूर्ण सौर ऊर्जा संचालित गाँव

मोढेरा: भारत का पहला पूर्ण सौर ऊर्जा संचालित गाँव

मोढेरा गांव के द्वारा किए गए सौर ऊर्जा के प्रति इस कार्य के जरिए पूरे देश को नई दिशा प्राप्त हुई है। इस गाँव में प्रत्येक घर में सोलर पैनल लगे हैं। जिनके द्वारा उत्पन्न बिजली को सोलर बैटरी में जमा किया जाता है। गाँव में रात में बैटरी द्वारा संग्रहीत बिजली का प्रयोग कर बिजली को प्राप्त किया जाता है। जिस कारण इस गाँव में 24 घंटे बिजली उपलब्ध रहती है। मोढेरा गांव को पहला सौर गाँव बनाने में केंद्र एवं राज्य सरकार के साथ-साथ गांव के निवासियों के मध्य एक साझा प्रयास का सहयोग है।

ग्रामीणों का जीवन बदल गया

सोलर पैनल के इस कुशल प्रयोग के द्वारा गाँव के नागरिकों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है। मिट्टी के बर्तन, कपड़े, खेती एवं जूते बनाने जैसे पारंपरिक कार्यों में लगे ग्रामीणों को अब अधिक समय एवं संसाधन प्राप्त हो रहे हैं। गांव के लोगों ने सौर ऊर्जा को अपनाकर न केवल अपने जीवन को बेहतर बनाया है बल्कि पर्यावरण की सुरक्षा में भी योगदान दिया है। मोढेरा गांव ने सिद्ध कर दिया है कि सूर्य की प्रचुर ऊर्जा का सही उपयोग हमारे जीवन को बेहतर बना सकता है।

यह भी देखें:अग्नि सोलर लालटेन खरीदें कम कीमत में, यहाँ जानें पूरी जानकारी

अग्नि सोलर लालटेन खरीदें कम कीमत में, यहाँ जानें पूरी जानकारी

भारत के लिए प्रेरणा

मोढेरा गाँव की सफलता ने देश भर के अन्य गांवों को भी अक्षय ऊर्जा की ओर रुख करने के लिए प्रेरित किया है। भारत सरकार का लक्ष्य 2030 तक अपनी ऊर्जा की आधी आवश्यकताओं को अक्षय स्रोतों जैसे सौर एवं पवन ऊर्जा से पूरा करना है। मोढेरा इस दिशा में एक बड़ी छलांग साबित हुआ है।मोढेरा गांव की यह कहानी पूरी दुनिया के लिए एक प्रेरणा है। सौर ऊर्जा का सही इस्तेमाल कर के हम एक स्थायी एवं हरित भविष्य की ओर बढ़ सकते हैं। और प्रकृति के नजदीक जा सकते हैं।

यह भी देखें:बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम की कीमत जानें

बिना बैटरी के 3 kw सोलर सिस्टम को लगाएं, कीमत जानें

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें