सोलर पैनल का उपयोग कैसे करें

Published By News Desk

Published on

सोलर पैनल का उपयोग कैसे करें: अगर आप चाहते हैं कि आपका या आपकी आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुरक्षित रहे, तो उसके लिए आपको आज ही से हरित भविष्य के लिए कदम बढ़ाने होंगे। जिसके लिए नवीकरणीय ऊर्जा को प्रयोग करने वाले उपकरणों का उपयोग आपको करना होगा। सूर्य प्राकृतिक ऊर्जा का सबसे बड़ा स्रोत है, सूर्य से प्राप्त होने वाली सौर ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा के रूप में बदलने के लिए सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है। सोलर पैनल बिना किसी प्रदूषण के बिजली उत्पादन का कार्य करते हैं। सोलर पैनल की बिजली उत्पादन की प्रक्रिया पर्यावरण के अनुकूल है।

सोलर पैनल का उपयोग कैसे करें: how to use solar panels
सोलर पैनल का उपयोग कैसे करें

इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि सोलर पैनल का उपयोग कैसे करें। सोलर पैनल का उपयोग आज के समय में अधिकांश क्षेत्रों में किया जाता है। सरकार भी सोलर सौर ऊर्जा का महत्व समझती है, इसलिए ही सोलर पैनल का प्रयोग करने के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। सोलर पैनल का प्रयोग करने से उपयोगकर्ता को भविष्य में काफी समय तक लाभ प्राप्त होता है।

सोलर पैनल की सामान्य जानकारी

सोलर पैनल का प्रयोग सौर ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है। सोलर पैनल में सोलर सेल लगे होते हैं, जिन्हें फोटोवोल्टिक सेल भी कहा जाता है। इनके द्वारा ही सूर्य से प्राप्त होने वाले प्रकाश से इलेक्ट्रान को मुक्त किया जाता है। जिस कारण इसमें विद्युत प्रवाह उत्पन्न होता है, जिसे विद्युत धारा कहते हैं। सोलर सेल सिलिकॉन के बने होते हैं। एवं इनकी सुरक्षा के लिए पैनल में टेम्पर्ड ग्लास लगा होता है। सोलर पैनल वर्तमान में मुख्य रूप से बाजारों में 3 प्रकार के हैं:

पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल, मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल एवं बाइफेशियल सोलर पैनल। इनके अतिरिक्त पतली फिल्म वाले सोलर पैनल भी बाजारों में देखे जाते हैं, जिनका प्रयोग हर प्रकार की आकृति के साथ किया जा सकता है। इनकी कीमत कम होती है, एवं ये कच्चे होते है। सोलर पैनल में घरों में या प्लांटों में सबसे अधिक प्रयोग पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल का किया जाता है।

सोलर पैनल का उपयोग कैसे करें?

सोलर पैनल के उपयोग बहुत से क्षेत्रों में किए जाते हैं, इस लेख में उनके उपयोग कैसे किए जाते हैं, इसकी जानकारी आप इस प्रकार समझ सकते हैं:

घर में सोलर पैनल का उपयोग

घर में सोलर पैनल का उपयोग करने के लिए आप एक पूरे सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं, जिसमें सोलर पैनल के साथ सोलर चार्ज, कन्ट्रोलर, इंवर्टर, सोलर बैटरी का प्रयोग किया जा सकता है। सोलर पैनल से निर्मित होने वाली बिजली को संग्रहीत करने के लिए बैटरी का प्रयोग कर सकते है। सोलर पैनल DC रूप में बिजली का उत्पादन करता है।

घर में प्रयोग किए जाने वाले अधिकांश उपकरण AC से संचालित होते हैं, इसलिए इंवर्टर का प्रयोग कर DC को AC में परिवर्तित किया जा सकता है। सोलर पैनल से निर्मित होने वाली बिजली से घर में TV, फ्रिज, AC, मोटर अभी उपकरणों को संचालित किया जा सकता है। इस से आप बिजली बिल कम प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी देखें:50W वाले सोलर पैनल

पावर कट के बाद भी चाहिए पावर बैकअप? 50W वाले सोलर पैनल करेंगे आपकी मदद

कैम्पिंग में सोलर पैनल का उपयोग

यदि आप घूमने या कैम्पिंग करने का विचार कर रहे हैं तो आप सोलर पैनल का प्रयोग वहाँ भी कर सकते हैं, आज-कल बाजारों में छोटे सोलर पैनल भी उपलब्ध हैं, जिन्हें आप आसानी से अपने साथ ले जा सकते हैं। इसमें आपको बैटरी अपने साथ ले जानी चाहिए जिस से आप बिजली को जमा कर के प्रयोग कर सकते हैं। जिसका प्रयोग आप आवश्यकता पड़ने पर कर सकते हैं। कई ई-वाहनों की बैटरी को सोलर पैनल से चार्ज किया जा सकता है।

अंतरिक्ष अभियान में सोलर पैनल का उपयोग

जब भी किसी वैज्ञानिक अनुसंधान से अंतरिक्ष अभियान भेजा जाता है, या कोई भी उपग्रह धरती के बाहर भेजा जाता है। तो उसे चार्ज एवं activate रहने के लिए प्राप्त होने वाली ऊर्जा सूर्य द्वारा ही प्राप्त होती है। उपग्रहों में सोलर पैनल लगे होते हैं, जो जिनसे निर्मित ऊर्जा का प्रयोग कर ही उपग्रह सालों तक उपयोग में लाए जाते हैं। सोलर पैनल के द्वारा ही चंद्रमा पर भेजे गए सभी लेंडर चार्ज होते हैं एवं कार्य करते हैं।

व्यावसायिक क्षेत्र में सोलर पैनल का उपयोग

सोलर पैनल का प्रयोग वर्तमान समय में सिर्फ घर में ही नहीं होता है, इनका उपयोग कृषि में की जाने वाली सिंचाई को सोलर पंप के द्वारा करने में भी किया जाता है, जिस से किसानों को आठीक लाभ प्राप्त होता है, उनकी जीवाश्म ईंधन की निर्भरता इससे समाप्त की जा सकती है। सोलर पैनल का उपयोग दुकानों से लेकर डेयरी उद्योग, कपड़ा उद्योग, कागज उद्योग, रासायनिक विनिर्माण, प्लास्टिक उद्योग जैसे अनेकों उद्योगों में किया जाता है। इनमें प्रयुक्त होने वाले उपकरणों को सोलर पैनल द्वारा ऊर्जा प्रदान की जाती है, जिस से ये आवश्यक ताप को बनाए रख सकते हैं।

सोलर पैनल का भविष्य

आज के समय में बाइफेशियल सोलर पैनल ऐसे हैं जो सबसे अधिक दक्षता रखते हैं, क्योंकि ये दोनों ओर से बिजली का उत्पादन करते हैं। मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल ऐसे सोलर पैनल हैं जो खराब मौसम में भी बिजली का उत्पादन करने की क्षमता रखते हैं। ये दोनों ही सोलर पैनल सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए जाने जाते हैं। लेकिन दोनों ही सोलर पैनल की कीमत अधिक है जिस कारण इनका प्रयोग कम होता है, लेकिन अभी ऐसी तकनीक के सोलर पैनल का निर्माण किया जा रहा है, जो आकार में भी छोटे होंगें एवं सबसे उच्च दक्षता प्रदान करेंगे। इनकी कीमत भी कम होगी, जिस से सोलर पैनल के प्रयोग में वृद्धि होगी।

निष्कर्ष

सोलर पैनल का उपयोग कैसे करते हैं यह जानकारी आप इस लेख से समझ गए होंगे, सोलर पैनल का उपयोग बिजली उत्पादन के लिए किया जाता है। एवं इस से निर्मित बिजली का प्रयोग हर प्रकार के विद्युत उपकरण को संचालित करने में किया जा सकता है। सोलर पैनल का उपयोग करने के लिए आपको एक पूर्ण सोलर सिस्टम की आवश्यता होती है, सोलर पैनल पर किया गया प्राथमिक निवेश आपको महंगा लग सकता है। जिसे आप सरकार की योजनाओं का लाभ प्राप्त कर के कम कर सकते हैं।

सोलर पैनल आपको 25 सालों तक बिजली प्रदान करने की क्षमता रखते हैं, इनकी निर्माता कंपनियां इन पर वारंटी भी प्रदान करती है। इनके प्रयोग से आप ग्रिड की बिजली के बिल को कम या शून्य भी कर सकते हैं, एवं फ्री बिजली का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। सोलर पैनल या नवीकरणीय ऊर्जा के उपकरणों के उपयोग से ही पर्यावरण को सुरक्षित रखा जा सकता है।

यह भी देखें:4 किलोवाट के सोलर सिस्टम से कितनी बिजली बनेगी, देखें

4 किलोवाट के सोलर सिस्टम से एक दिन में कितनी बिजली बनती है? यहाँ देखें

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें