घरेलू उपकरणों के लिए बिजली का लोड पता करें

घरों में चलाए जाने वाले बिजली के उपकरणों के द्वारा विद्युत भार की कैलकुलेशन की जाती है। जिस से कई प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं।

Published By News Desk

Published on

घरेलू उपकरणों के लिए बिजली का लोड पता करें
घरेलू उपकरणों के लिए बिजली का लोड

बिजली का लोड (Electric Load) की गणना प्रयोग किए जाने वाले सभी घरेलू विद्युत उपकरणों द्वारा लिए जाने वाले लोड की गणना को कहते हैं। घरेलू उपकरणों (जैसे: बल्ब, पंखे, एसी, टीवी, वाशिंग मशीन आदि) को चलाने में कितनी बिजली का प्रयोग होता है? इसकी जानकारी आसानी से विद्युत भार ज्ञात कर के प्राप्त की जा सकती है। यह एक महत्वपूर्ण जानकारी है जिससे आप अधिक ऊर्जा-कुशल विकल्प में अपग्रेड होना है या नहीं, यह समझ सकते हैं। और कुशल प्लांट की स्थापना कर सकते हैं।

यदि आप घर में सोलर सिस्टम स्थापित करना चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले अपने घर में प्रयोग होने वाले सभी विद्युत उपकरणों के विद्युत लोड की जानकारी होनी चाहिए, जिसके आधार पर आप एक सही एवं कुशल क्षमता का सोलर सिस्टम स्थापित कर सकते हैं। सोलर सिस्टम को स्थापित करने से पूर्व बिजली के लोड की गणना ही मुख्य कार्य किया जाता है। भारत में विद्युत लोड की गणना (Calculation of electric load) की गणना की जानकारी यहाँ देखें।

बिजली का लोड (Electric Load) क्या है?

बिजली का लोड किसी भी स्थान (घर, व्यावसायिक या वाणिज्यिक क्षेत्र) से जुड़े विद्युत सर्किट उपकरणों को संचालित करने में प्रयोग होने वाली बिजली होती है। विद्युत लोड की गणना करने से उचित क्षमता के सोलर सिस्टम एवं उपयुक्त बैटरी भंडारण (Battery Storage) की स्थापना करने में आसानी होती है। सभी विद्युत उपकरण बिजली का प्रयोग करते हैं, जिसके द्वारा वे विद्युत ऊर्जा को गति, प्रकाश एवं गर्मी में परिवर्तित करने का कार्य करते हैं। किसी उपकरण को चलाने में होने वाली बिजली की खपत को ही विद्युत भार कहा जाता है।

क्या आप घर पर बिजली का लोड जान सकते हैं?

बिजली का लोड गणना करना कठिन लग सकता है, लेकिन आप इस लेख के द्वारा आसानी से लोड की गणना कर सकते हैं। किसी विद्युत सर्किट से कनेक्ट उपकरणों द्वारा प्रयोग की जाने वाली बिजली की जानकारी के द्वारा लोड की जानकारी प्राप्त की जाती है। बिजली के लोड की कैलकुलेशन करने के लिए गणितीय सूत्र में बिजली, वोल्टेज एवं करंट की इकाइयों के संबंध को स्थापित किया जाता है, इसमें सभी उपकरणों के सुरक्षित कार्य करने में मार्जिन रखने की सलाह दी जाती है, बिजली का उपयोगिता मुख्य सर्किट की अधिकतम लोड क्षमता से 20% कम होनी चाहिए। निम्न सूत्र के द्वारा सम्पूर्ण विद्युत सर्किट एवं व्यक्तिगत सर्किट की क्षमता की कुशलता से गणना कर सकते हैं:-

  • एम्पीयर = वाट्स/वोल्ट
  • वाट = वोल्ट x एम्पीयर
  • कुल विद्युत भार = पावर रेटिंग का योग × दैनिक उपयोग के घंटों का योग × विविधता कारक (0.8)1

घर में बिजली का लोड गणना करने से पहले प्रयोग किए जाने वाले घरेलू उपकरणों द्वारा प्रयोग की जाने वाली बिजली की खपत की जानकारी का होना आवश्यक होता है। निम्न सारणी में घर में प्रयोग होने वाले सामान्य उपकरण एवं उनकी पावर रेटिंग की जानकारी दी गई है:-

उपकरण (Appliances) पावर रेटिंग
Incandescent lamp40W – 150W
CFL6W – 30W
LED बल्ब4W – 25 W
Fluorescent ट्यूब लाइट18W – 60W
LED ट्यूब लाइट8W – 36W
Table fan30W – 70W
Induction motor Ceiling fan60W – 80W
Cooler100W – 500W
AC (1 ton)3.517 KW
Refrigerator150W – 400W
कंप्यूटर100W – 250W
माइक्रोवेव600W – 1700W
Washing machine300W – 500W
Smartphone charger 4W – 7W
TV60W – 120W

बिजली के लोड की गणना के उदाहरण

आपके घर में प्रयोग किए जाने वाले उपकरणों की पावर रेटिंग की जानकारी उपकरण के माध्यम से आप प्राप्त कर सकते हैं, उन्हें आप प्रतिदिन कितने घंटे प्रयोग करते हैं, ऐसे में आप लोड की गणना आसानी से कर सकते हैं।

उपकरणों की संख्यापावर रेटिंग घंटों में उपयोग (प्रतिदिन) लोड की गणना
4 एलईडी बल्बप्रत्येक 9 वाट104 x 9 x 10 = 360 वाट
2 पंखेप्रत्येक 60 वाट142 x 60x 14 = 1680 वाट
1 कूलर400 वाट61 x 400W x 6 = 2,400 वाट
2 छत पंखेप्रत्येक 70-वाट182 x 70W x 18 = 2,520 वाट
1 टीवी100-वाट41 x 100W x 4 = 400 वाट
1 रेफ्रिजरेटर300 वाट121 x 300W x 12 = 3,600 वाट
कुल लोड 10,960 वाट-घंटा

चूंकि कुल विद्युत भार = पावर रेटिंग का योग × दैनिक उपयोग के घंटों का योग × विविधता कारक (0.8), तो ऐसे में 10,960 x 0.8 = 8796.8 वाट-घंटा लोड होगा। विविधता कारक को बिजली के नुकसान की गणना के लिए प्रयोग किया जाता है। विद्युत भार की गणना करने से पहले आपको उन उपकरणों की गणना की जानकारी रखनी हैं जिनका प्रयोग सिर्फ दिन या रात के समय अधिक किया जाता है।

उपरोक्त सारणी में बताया गया कुल लोड 8796.8 वाट-घंटा है जिसे यदि हम यूनिट में 8.796 यूनिट कहते हैं। प्रतिदिन यदि आप 10.96 यूनिट बिजली का प्रयोग करते हैं तो ऐसे में आप एक महीने में 8.796 x 30 = 263.88 यूनिट बिजली का प्रयोग करते हैं। जिसके अनुसार यदि आपके राज्य में बिजली का बिल 8 रुपये प्रति यूनिट है तो आपको लगभग 2112 रुपये का बिल प्राप्त होता है।

बिजली के लोड की गणना के क्या लाभ हैं?

विद्युत लोड की गणना आप स्वयं भी उपरोक्त प्रक्रिया के माध्यम से कर सकते हैं या आप किसी अनुभवी इलेक्ट्रीशियन की सहायता प्राप्त कर के बिजली के लोड की गणना कर सकते हैं। बिजली के लोड की गणना करने से निम्नलिखित लाभ होते हैं:-

  • बिजली के लोड की जानकारी होने के बाद नागरिक कुशलतापूर्वक बिजली का उपयोग कर सकते हैं, एवं अधिक बिजली का प्रयोग कर संचालित होने वाले उपकरणों को बदल सकते हैं। ऐसे में आप आधुनिक एवं एडवास तकनीक के उपकरणों को अपने सर्किट से जोड़ सकते हैं। ऐसा करने पर वे बिजली के बिल को कम कर सकते हैं।
  • यदि नागरिक सोलर सिस्टम को स्थापित करना चाहते हैं तो वे बिजली के लोड की जानकारी होने पर एक कुशल एवं उपयुक्त क्षमता का सोलर सिस्टम स्थापित कर सकते हैं। यदि नागरिक स्मार्ट उपकरणों का प्रयोग करते हैं तो लोड की जानकारी यह यह पता चलता है कि उसे कब अपग्रेड करना है।
  • बिजली के लोड की जानकारी होने के बाद नागरिक बिजली की अनियंत्रित बर्बादी को रोक सकते हैं। जिस से बिजली का सही से प्रयोग किया जा सकता है। ऐसे में नागरिक अपने घर या व्यावसायिक स्थल की सुरक्षा को सुनिश्चित कर सकते हैं। जिस से शॉर्ट सर्किट जैसी समस्याओं को खत्म किया जा सकता है। ब्लैकआउट से बचने के लिए नए सेफ़्टी उपकरणों का प्रयोग करना चाहिए।

भार क्षमता (Load Capacity) बढ़ाने के तरीके क्या हैं?

ओवरलोड जैसी समस्याओं को हल करने के लिए मुख्य सर्किट क लोड क्षमता को बढ़ाया जाता है। घर में बिजली के लोड को समायोजित करने के लिए एक महत्वपूर्ण नया सर्किट स्थापित किया जाता है। लोड कपैसिटी को बढ़ाने के लिए निम्न तरीकों का प्रयोग किया जाता है:-

यह भी देखें:सोलर वॉल लाइट को घर में लगाएं, यहाँ जानें कीमत

सोलर वॉल लाइट को घर में लगाएं, यहाँ जानें कीमत

  • फ्यूज बॉक्स को सर्किट ब्रेकर में बदलना आवश्यक होता है, फ्यूज बॉक्स में नए सर्किट को जोड़ने के लिए आवश्यक स्थान की कमी होती है। क्योंकि फ्यूज बॉक्स में बहुत कम जगह होती है।
  • ब्रेकर बॉक्स में नए सर्किट स्थापित करने के लिए एवं उनसे जुड़ी हुई केबलों के लिए कई आवश्यक स्लॉट होते हैं। जिनका प्रयोग कर स्थान प्राप्त किया जा सकता है।
  • वे नागरिक जो भार क्षमता को बढ़ाना चाहते हैं लेकिन उनके पास जगह की कमी है तो वे सिंगल ब्रेकर के स्थान पर टेंडेम ब्रेकर का प्रयोग कर सकते हैं। लोड कपैसिटी को बढ़ाने के बाद आवश्यक सुरक्षा उपकरणों को अपने सर्किट में स्थापित करना चाहिए।

इलेक्ट्रिक लोड गणना के लिए पावर बॉक्स के विभिन्न प्रकार

विद्युत शक्ति बॉक्स (Electrical Power Boxes) मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं।2 इनके माध्यम से घर की इलेक्ट्रिक कपैसिटी को निर्धारित किया जा सकता है। ये बॉक्स इस प्रकार रहते हैं:-

  • 15 Amp छोटे फ़्यूज़ बॉक्स– घरेलू सेटिंग के बाहर स्थापित इलेक्ट्रिक पैनल में जोड़ने के लिए ये बॉक्स बहुत छोटे होते हैं, ये बॉक्स सामान्यतः पुराने घरों में बिना बिजली को बढ़ाए संचालित किए जा सकते हैं।
  • 30 Amp मध्यम आकार के सर्विस पैनल– डिशवाशर या क्लॉथ ड्रायर जैसे उपकरणों में इस प्रकार के बॉक्स को रखा जाता है। इनका प्रयोग पुराने घरों में देखा जा सकता है।
  • 100 Amp बड़े ब्रेकर सर्विस पैनल– अधिक उपकरणों को बिजली प्रदान करने के लिए इलेक्ट्रिक चार्ज की पूर्ति करने के लिए इस प्रकार के बड़े पावर बॉक का प्रयोग किया जाता है। इस प्रकार के बॉक्स अधिकतर घरेलू सेटिंग्स में प्रयोग किए जाते हैं। इनका प्रयोग कर के विद्युत ऊर्जा सिस्टम को एडवांस बनाया जा सकता है।

क्या आपको सौर पैनलों का उपयोग करना शुरू कर देना चाहिए?

यदि आप बिजली के भारी बिल से परेशान हैं एवं बिजली बिल को कम करना चाहते हैं तो आप सोलर पैनल की स्थापना कर के बिजली का उत्पादन एवं लाभ प्राप्त कर सकते हैं। बिजली के लोड की जानकारी होने के बाद आप अपनी आवश्यकता के अनुसार सोलर पैनल का प्रयोग कर सकते हैं एवं एक ऑन-ग्रिड या ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर पैनल से बनने वाली बिजली को ग्रिड के साथ शेयर किया जाता है, एवं बिजली के बिल को बहुत कम किया जा सकता है।

ऑनग्रिड सोलर सिस्टम में बिजली को जमा कर के नहीं रखा जाता है, इसमें किसी प्रकार की बैटरी का प्रयोग नहीं होता है। पावर बैकअप की आवश्यकता वाले नागरिक ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम को स्थापित कर सकते हैं। एक सोलर सिस्टम में सोलर पैनल, सोलर इंवर्टर, सोलर चार्ज कन्ट्रोलर और बैटरी का प्रयोग किया जा सकता है। लोड की जानकारी होने के बाद आसानी से सही क्षमता के सोलर सिस्टम को स्थापित किया जा सकता है।

घरेलू उपकरणों के लिए बिजली का लोड से संबंधित प्रश्न एवं उत्तर

घरेलू बिजली के लोड की गणना के लिए किन उपकरणों पर विचार किया जाता है?

घरेलू बिजली के लोड की गणना के लिए घर में प्रयोग किए जाने वाले सभी प्रकार के विद्युत उपकरणों की पावर रेटिंग एवं उन्हें प्रयोग करने वाले समय की जानकारी देखी जाती है।

विद्युत भार/ इलेक्ट्रिकल लोड की गणना क्यों करनी चाहिए?

बिजली के लोड की गणना करना इसलिए आवश्यक है क्योंकि ऐसा करने पर बिजली का प्रयोग सुचारु रूप से किया जा सकता है। बिजली की अतिरिक्त खपत को कम किया जा सकता है। और सोलर सिस्टम को स्थापित करने में लोड के अनुसार क्षमता का चयन किया जा सकता है। यह आप स्वयं भी कर सकते हैं और विशेषज्ञ इलेक्ट्रिशियन की सहायता भी प्राप्त कर सकते हैं।

ब्रेकर पैनल में अधिकतम amp मान क्या है?

ब्रेकर पैनल में अधिकतम 100 Amp मान रहता है। इनका प्रयोग अधिक लोड वाले स्थानों में किया जा सकता है।

विद्युत पैनल लोड शेड्यूल क्या होता है?

पैनल लोड शेड्यूल एक डायग्राम होता है, जिसमें पैनल के विवरण एवं उससे जुड़े सर्किट की जानकारी होती है। साथ ही उसमें संबंधित लोड का भी उल्लेख है, सामान्यतः इलेक्ट्रीशियन या इंजीनियर इसका किया प्रयोग करते हैं।

क्या 2Bhk वाले घर के लिए 200 एम्पीयर का लोड पर्याप्त है?

किसी घर की बिजली की आवश्यकता उसमें लगे उपकरणों के प्रकार (संख्या) पर निर्भर करती है, 40 से 63 एम्पीयर अधिकांश घरों के लिए पर्याप्त होती है। बिजली के लोड की जानकारी प्राप्त कर यह पता किया जा सकता है।

इस लेख के माध्यम से आप आसानी से घरेलू उपकरणों के लिए बिजली का लोड गणना कर सकते हैं। बिजली के लोड की जानकारी होने के साथ ही आपको एक सुरक्षित विद्युत सिस्टम को स्थापित करना चाहिए। जिस से घर के सभी उपकरणों एवं सर्किट को सुरक्षा प्राप्त हो सकती है। एवं शॉर्ट सर्किट और ब्लैकआउट जैसी समस्याओं से घर की सुरक्षा की जा सकती है। लोड की जानकारी होने के बाद आप कई प्रकार से अपने नए उपकरणों का प्रयोग कर सकते हैं।

  1. अपने घर के लिए कुल विद्युत भार निर्धारित करने के लिए समायोजित ऊर्जा खपत मूल्यों का योग करें। ↩︎
  2. Electrical Power Boxes मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं। ↩︎

यह भी देखें:मुफ्त बिजली योजना पर यूपी से अधिक हरियाणा में मिल रही सब्सिडी, ये है अप्लाई करने का प्रोसेस

मुफ्त बिजली योजना पर यूपी से अधिक हरियाणा में मिल रही सब्सिडी, देखें अप्लाई करने का प्रोसेस

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें