ग्रीनको ग्रुप भारत में 975 मेगावाट क्षमता का नवीकरणीय ऊर्जा परिसर बनाएगा

हैदराबाद स्थित ग्रीनको (Greenko) और आर्सेलरमित्तल (ArcelorMittal SA) ने भारत में 975 मेगावाट का नवीकरणीय ऊर्जा परिसर बनाने की घोषणा की है। ग्रीनको, जो 7.5 गीगावाट की नेट स्थापित क्षमता के साथ भारत की प्रमुख नवीकरणीय ऊर्जा कंपनियों में से एक है।

Published By SOLAR DUKAN

Published on

ग्रीनको ग्रुप भारत में 975 मेगावाट क्षमता का नवीकरणीय ऊर्जा परिसर बनाएगा
ग्रीनको ग्रुप भारत में 975 मेगावाट क्षमता का नवीकरणीय ऊर्जा परिसर बनाएगा

हैदराबाद स्थित ग्रीनको (Greenko) भारत की प्रमुख नवीकरणीय ऊर्जा कंपनियों में से एक है, जो जीवाश्म ईंधन को हटाकर सतत और सस्ती ऊर्जा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। कंपनी का नेट स्थापित क्षमता 7.5 गीगावाट (GWdc) है, जो भारत के 15 राज्यों में फैली हुई है। मंगलवार को ग्रीनको ने घोषणा की कि वह स्टील और माइनिंग जायंट आर्सेलरमित्तल (ArcelorMittal SA) के लिए भारत में 975 मेगावाट (MW) का राउंड-द-क्लॉक नवीकरणीय ऊर्जा परिसर बनाएगी।

Greenco’s vision and mission

ग्रीनको ग्रुप नवीकरणीय ऊर्जा को एक रियल-टाइम ऊर्जा स्रोत से नियंत्रित और प्रेषण योग्य माध्यम में बदलने के लिए प्रतिबद्ध है। कंपनी ने आंध्र प्रदेश (AP), मध्य प्रदेश (MP) और कर्नाटक (Karnataka) राज्यों में एकीकृत नवीकरणीय ऊर्जा भंडारण परियोजनाएं (Integrated Renewable Energy Storage Projects) शुरू की हैं। ग्रीनको का मुख्यालय हैदराबाद में स्थित है और यह भारतीय ऊर्जा बाजार के डिजिटलीकरण, डीकार्बोनाइजेशन और विकेंद्रीकरण में अग्रणी है। कंपनी का उद्देश्य देश की दीर्घकालिक ऊर्जा सुरक्षा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपयोगिता-स्तरीय, स्वच्छ और सस्ती ऊर्जा प्रदान करना है।

आर्सेलरमित्तल के साथ साझेदारी

इस नई साझेदारी के तहत, ग्रीनको आंध्र प्रदेश में सोलर और विंड पार्क्स का डिजाइन, निर्माण और संचालन करेगी। इस परियोजना का कमीशनिंग मध्य-2024 के लिए योजनाबद्ध है। आर्सेलरमित्तल, जो इन संयंत्रों का स्वामित्व रखेगा, इस परियोजना में लगभग 600 मिलियन अमेरिकी डॉलर (लगभग 543 मिलियन यूरो) का निवेश करेगी।

पंप-स्टोरेज हाइड्रोपावर प्लांट का समर्थन

विंड और सोलर पावर जनरेशन की अस्थिर प्रकृति को दूर करने के लिए, नई सुविधाओं का समर्थन ग्रीनको के पंप-स्टोरेज हाइड्रोपावर प्लांट द्वारा किया जाएगा। यह संयंत्र निरंतर और स्थिर ऊर्जा उत्पादन सुनिश्चित करेगा, जो किसी भी नवीकरणीय ऊर्जा परियोजना के लिए महत्वपूर्ण है।

यह भी देखें:Solar Panel: कौन सा सोलर पैनल अच्छा रहता है? कौन सा लगाएं

Solar Panel: कौन सा सोलर पैनल अच्छा रहता है? कौन सा लगाएं

Long Term Offtake Deal

आर्सेलरमित्तल की स्थानीय संयुक्त उद्यम कंपनी, आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया (ArcelorMittal Nippon Steel India – AM/NS India), इस नए परिसर से 250 मेगावाट क्षमता के साथ 25 साल की ऑफटेक डील पर हस्ताक्षर करेगी। खरीदी गई बिजली की मात्रा संयुक्त उद्यम के हजीरा प्लांट की बिजली आवश्यकताओं का 20% से अधिक कवर करने के लिए पर्याप्त होगी।

ग्रीनको और आर्सेलरमित्तल की यह साझेदारी भारत में नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह परियोजना न केवल देश की ऊर्जा सुरक्षा को मजबूत करेगी बल्कि कार्बन न्यूट्रल बिजली मिश्रण की दिशा में भी एक महत्वपूर्ण योगदान देगी।

यह भी देखें:सोलर पैनल लगाने पर टैक्स और वित्तीय लाभ

सोलर पैनल लगाने पर टैक्स और वित्तीय लाभ

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें