Rooftop solar installations: छत पर सोलर पैनल लगाने में भारत की बड़ी छलांग, अमेरिकी रिसर्च फर्म भी हुई मुरीद

Published By News Desk

Published on

आज के समय में जहां बिजली की आवश्यकताएं प्रतिदिन बढ़ रही हैं, ऐसे में इलेक्ट्रिक ग्रिड पर बहुत अधिक लोड रहता है। इलेक्ट्रिक ग्रिड पर निर्भरता को कम करने के लिए नवीकरणीय ऊर्जा के स्रोतों से बिजली बनाई जा रही है। सौर ऊर्जा सूर्य से प्राप्त होने वाली एक प्राकृतिक ऊर्जा है। सौर ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करने के लिए सोलर पैनल का प्रयोग किया जाता है। सोलर पैनल का प्रयोग अधिक से अधिक करने के लिए सरकार भी निरंतर प्रयास कर रही है। ऐसे में आम नागरिकों को सोलर पैनल से आसानी से बिजली प्राप्त होती है, और देश की नवीकरणीय ऊर्जा की क्षमता में वृद्धि होती है।

Rooftop solar installations: छत पर सोलर पैनल लगाने में भारत की बड़ी छलांग, अमेरिकी रिसर्च फर्म भी हुई मुरीद
Rooftop solar installations

आज के समय में सोलर पैनल लगवाने (Rooftop solar installations) की कीमत कम हो रही हैं। सरकार द्वारा सोलर पैनल लगवाने का उद्देश्य नागरिकों को आर्थिक एवं पर्यावरणीय लाभ प्रदान करना है। सूर्य घर जैसी योजनाओं के द्वारा 1 करोड़ परिवारों के घरों में सोलर पैनल स्थापित किए जाएंगे। भारत में अधिक से अधिक नागरिक तेजी से सोलर पैनल को स्थापित कर रहे हैं। वर्ष 2023 में सोलर पैनल की स्थापना में 6.25% बढ़कर 1.7 गीगावाट हो गया है। इस साल और तेजी से इसमें वृद्धि होने की उम्मीद है।

Rooftop solar installations

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सोलर पैनल से जुड़ी योजनाओं को लगातार लांच किया जा रहा है। साथ ही अनेकों परिवार अपने घरों पर सोलर सिस्टम को स्थापित कर रहे हैं। सोलर सिस्टम का प्रयोग कर के ग्रिड बिजली के बिल को कम किया जा सकता है, साथ ही सोलर सिस्टम पर्यावरण को बिना प्रदूषित किए बिजली का उत्पादन करता है। ऐसे में सोलर सिस्टम के इन्हीं महत्वों को समझते हुए अधिक से अधिक इनकी स्थापना की जा रही है। भारत में सोलर पैनल की स्थापना की ग्रोथ को देखते हुए अमेरिकी रिसर्च फर्म मेरकॉम कैपिटल (Mercom Capital) द्वारा रिपोर्ट जारी की गई है।

अमेरिकी रिसर्च फर्म मेरकॉम कैपिटल की रिपोर्ट

अमेरिकी रिसर्च फर्म मेरकॉम कैपिटल (Mercom Capital) द्वारा मेरकॉम इंडिया रूफ्टाप सोलर मार्केट रिपोर्ट जारी की गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में वर्तमान में सोलर पैनल इंस्टालेशन की कीमत में कमी आई है। जिस कारण अधिक नागरिक सोलर पैनल को स्थापित कर रहे हैं। केंद्र एवं राज्य सरकार की सोलर पैनल से संबंधित प्रोत्साहन योजनाओं का लाभ प्राप्त कर के नागरिक इसका लाभ उठा रहे हैं। वर्ष 2023 में भारत की सोलर क्षमता में वृद्धि होने में नागरिकों के रुफटॉप सोलर पैनल का मुख्य योगदान रहा है। वर्तमान में जारी योजनाओं के माध्यम से अधिक नागरिक सोलर सिस्टम को अपने घरों में स्थापित करेंगे।

व्यावसायिक एवं औद्योगिक क्षेत्रों में सोलर पैनल को स्थापित करने के लिए अभी पैनल की कीमतों के स्थिर होने का इंतजार किया जा रहा है। व्यावसायिक एवं औद्योगिक क्षेत्रों में सोलर पैनल स्थापित होने से पिछले वर्ष ऊर्जा क्षमता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा था। सोलर पैनल को आवासीय क्षेत्रों, वाणिज्यिक क्षेत्रों एवं सरकारी दफ्तरों की छतों पर, कृषि क्षेत्रों में आदि स्थानों पर स्थापित किया जा रहा है। ऐसे में सोलर क्षमता अधिक तेजी से बढ़ेगी। और इसका लाभ नागरिकों को प्राप्त होगा। सोलर पैनल पर किया जाने वाला निवेश बुद्धिमानी का निवेश कहा जाता है, क्योंकि एक बार के निवेश के बाद कई सालों तक पैनल से बिजली प्राप्त की जा सकती है।

सोलर पैनल की स्थापना लागत पर सोलर सिस्टम निर्भर

मेरकॉम कैपिटल के सीईओ राज प्रभु द्वारा बताया कि बिजली लगातार बढ़ रही है, जबकि सोलर सिस्टम की स्थापना की लागत कम हो रही है। केंद्र एवं राज्य सरकार सोलर सिस्टम को स्थापित करने के लिए नागरिकों को सब्सिडी योजनाओं के माध्यम से प्रेरित कर रहे हैं, जिस से देश के नागरिक कम कीमत पर सोलर सिस्टम को स्थापित करने में सक्षम हो रहे हैं।

यह भी देखें:गर्मियों का सीजन आने से पहले लगवाएं 1kw Solar Panel, कम कीमत में

गर्मियों का सीजन आने से पहले लगवाएं 1kw Solar Panel, कम कीमत में

सोलर सिस्टम पर सब्सिडी प्राप्त करने के लिए नागरिक अपने लोड के अनुसार ऑनग्रिड सोलर सिस्टम स्थापित करते हैं। जिसमें पैनल से बनने वाली बिजली को इलेक्ट्रिक ग्रिड से साझा किया जाता है। ऐसे सोलर सिस्टम के द्वारा बिजली के बिल से राहत प्राप्त की जा सकती है। मेरकॉम कैपिटल के सीईओ राज प्रभु द्वारा यह भी बताया गया है कि वर्तमान समय में सोलर सिस्टम की स्थापना में आवासीय सेगमेंट के साथ ही कमर्शियल-इंडस्ट्रियल सेगमेंट को भी निवेश पर आकर्षक रिटर्न मिल रहा है।

सोलर सिस्टम की स्थापना की लागत में कमी आने से वर्ष 2024 में अधिक से अधिक क्षेत्रों में सोलर पैनल की स्थापना देखी जा सकती है। जिस से नवीकरणीय ऊर्जा की क्षमता में अधिक वृद्धि होने की संभावना है। पीएम सूर्य घर मुफ़्त बिजली योजना जैसी योजनाओं के द्वारा सोलर पैनल की ओर अधिक से अधिक नागरिकों का ध्यान आकर्षित किया जा रहा है। इस योजना में सोलर पैनल की स्थापना के साथ ही नागरिकों को 300 यूनिट बिजली फ्री प्राप्त होती है।

निष्कर्ष

सोलर पैनल की बढ़ती मांग से स्वतः ही नवीकरणीय ऊर्जा की क्षमता में वृद्धि देखी जा सकती है। सोलर रुफटॉप सिस्टम को स्थापित करने की औसत लागत में लगातार पाँचवी तिमाही में गिरावट आई है। जिस से इनकी इंस्टालेशन कोस्ट में कमी के कारण अधिक लाभार्थी सोलर पैनल स्थापित कर रहे हैं।

सोलर सिस्टम से जीवाश्म ईंधन की निर्भरता को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है। जिससे पर्यावरण में उपस्थित कार्बन फुटप्रिन्ट में कमी आएगी, सोलर पैनल के प्रयोग से ही हरित भविष्य की ओर बढ़ा जा सकता है। साथ ही सोलर सिस्टम से बिजली के बिल को कम किया जा सकता है, और आने वाले 25 साल तक पैनल से प्राप्त बिजली का लाभ उठाया जा सकता है।

यह भी देखें:अब लगाएं सबसे एफ्फिसिएंट सोलर सिस्टम अपने घर में, पूरी डिटेल्स जानिए

अब लगाएं सबसे एफ्फिसिएंट सोलर सिस्टम अपने घर में, पूरी डिटेल्स जानिए

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें